वरुण देव मंत्र । वरुण गायत्री मंत्र । वरुण देव आवाहन मंत्र

वरुण देव का मंत्र । जल देवता मंत्र

वरुण देव को जल देवता के रूप में माना जाता है क्योंकि जल पृथ्वी पर सृष्टि के आधिकांश हिस्से को आवरण करता है। यह  देव जल के स्वामी हैं और उनकी महिमा बहुत महान है। यह देव को जीवन को प्रदान करने वाले जल के स्वामी माने जाते हैं।

 

ॐ वम वरुणाय नमः 

 

वरुण देवता का ध्यान मंत्र

वरुण-देवता-का-ध्यान-मंत्र-varun-dev-dhyan-mantra.
वरुणदेवत का ध्यान मंत्र

अथ ध्यान मंत्र:

 

ॐ नमो नमस्ते  स्फटिक  प्रभाय सुश्वेताराय सुमंगलाय। 

सुपशहस्ताय झशासनाय जलाधिनाथाय नमो नमस्ते ॥

ॐ वरुणाय नमः ॥ ध्यानं मर्पयामि॥

 

वरुण देवता गायत्री आह्वान मंत्र । वरुण देव आवाहन मंत्र

varun-dev-mantra वरुण देव आवाहन मंत्र
वरुणदेव आवाहन मंत्र

 

अथ आहवाहन मंत्र:

ॐ तत्त्वयामि ब्रह्मणा वन्दमानः

तदाशास्ते यजमानो हविर्भि:

अहेडमानो वरुणेह ब्रोद्युरुष गुम  सामानऽआयुः प्रमोषीः

ॐ भूर्भुवः स्वः वरुणाय नमः। अवहयामि त्वम् देव। स्थापयामि पूजयामि च।

 

 

 

वरुण गायत्री मंत्र

varun dev gayatri mantra
varun dev gayatri mantra

बरुन  देव जल के देवता माने जाते हैं। वरुण गायत्री मंत्र का जाप करने से आपके घर, रिश्तों, शरीर आदि और जीवन की हर व्यवस्था और सद्भाव में सुधार हो सकती है। इस मंत्र को दिन के किसी भी समय जाप करने से आप अपने जीवन में पानी की तरह शुद्धता और सरलता ला सकते हैं।

वरुण गायत्री मंत्र पुरुष और महिला के बीच शांति और प्रेम को बढ़ावा देने के लिए उपयोगी होता है, विशेष रूप से जब दो लोग आपस में विवादित रहते हैं। इस मंत्र का जाप वैवाहिक जीवन में नवविवाहित जोड़ी के लिए भी उपयोगी है। यह अपने शरीर और मन में विकारों से छुटकारा पाने के लिए भी सहायक हो सकता है। आप वरुण गायत्री मंत्र का जाप करके अपने जीवन में शुद्धता, सद्भाव, और प्रेम को बढ़ा सकते हैं।

 

ॐ जल बिम्बाय विद्महे नील पुरुषाय धीमहि तन्नो वरुण: प्रचोदयात् ।।

 

वरुण गायत्री मंत्र का अर्थ

ॐ, मैं जल के प्रतिबिम्ब के समर्पण में 

हे समुद्र के नीले रंग के राजा,

मेरे लिए उच्च बुद्धि का आशीर्वाद दें ,

और जल के देवता को मेरे मन को प्रकाशित करने की प्रार्थना करता हूँ।

 

 

वरुण देव कौन है ?

वरुणदेव के बारे में कुछ जानकारी

  • देवता वरुण भारतीय पौराणिक कथाओं और वेदों में महत्वपूर्ण देवता माने जाते हैं। 
  •  देव वरुण को जल देवता के रूप में पूजा जाता है क्योंकि जल पृथ्वी पर सृष्टि के आधिकांश हिस्से को आवरण करता है।
  •  इनको जल के स्वामी माने जाते हैं और उनकी महिमा बहुत महान है। 
  • इदेव वरुण का वाहन मगरमछ (मछली) के रूप में जाना जाता है।
  • बरूण देवता को तीनों लोकों (पृथ्वी, वायु और आकाश) में सर्वोच्च स्थान प्राप्त है। 
  • क्रोधित होने पर जलोदर रोग के कारण लोगों को पीड़ा पहुंचाते हैं।
  • इस देवता के माता-पिता अदिति और ऋषि कश्यप हैं और उनके भाई का नाम मित्र है। 
  • इस  देवता को समुंद्र के देवता और रात्रि में आकाश के देवता के रूप में माना जाता है।
  • यह देवता के पुत्र पुष्कर उनके दक्षिणी भाग में सदैव उपस्थित रहते हैं।

यह भीं पढ़े :

 


 

Leave a Comment

error: Content is protected !!