16 Nitya Devi Mantras । तिथि नित्य देवी मंत्र

मानवीय जीवन में ध्यान और आध्यात्मिकता का महत्व हमेशा से रहा है। हिन्दू धर्म में भी इसकी गहरी प्राथमिकता है और अनेक देवी देवताओं की पूजा और आराधना इसका महत्वपूर्ण हिस्सा है। नित्य देवी मंत्रों का उच्चारण और जाप करने से व्यक्ति मानसिक, शारीरिक, और आध्यात्मिक रूप से सुखी और समृद्ध हो सकता है। यह लेख “16 Nitya Devi Mantras” के बारे में है जो आपको इन मंत्रों के  के बारे में बताएँगे।

लेख सारिणी

नित्य देवी क्या एबं कौन है ?

देवी के अनुरोध पर शिव ने एक अलग तंत्र की मांग की, देवी के अनुरोध पर विचार करते हुए शिव ने नित्या देवी के बारे में विस्तार से बताया। इससे पहले, शिव ने देवी को गुरु के महत्व, गुरु की पूजा, और मंत्र के चयन आदि के बारे में बताया। एक रोचक और आश्चर्यजनक बात यह है कि शिव ने कहा है कि इन सभी प्रक्रियाओं के लिए नित्य मंत्रों की आवश्यकता नहीं है! यह मतलब है कि कोई भी व्यक्ति, जिसकी इसमें रुचि हो, नित्य मंत्रों का अभ्यास कर सकता है। 

श्री ललिता की पूजा श्री विद्या उपासना का अभिन्न अंग है। श्री ललिता आद्या शक्ति हैं, जो सत्, आनंद और पूर्णता का प्रतिष्ठान हैं। उनके आसपास 15 अंग देवताएं या नित्य देवी हैं, जिन्हें नित्य देवी कहा जाता है। 

ये 15 नित्य प्रसिद्ध 15 अक्षरों वाले देवी मंत्र को पंचदशाक्षरी मंत्र के रूप में जाना जाता है: का ई ऐ ला ह्रीं ह सा का हा ला ह्रीं सा का ला ह्रीं

ये नित्य देवियाँ पंच मौलिक तत्वों, अर्थात पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु, और आकाश, के साथ 15 गुणों का प्रतिनिधित्व करती हैं। प्रत्येक पंचतत्व में सत्व, रजस और तमो गुण होते हैं, और इसलिए इनमें सम्मिलित होकर यह 15 बनता है। इन 15 नित्य देवियों को व्यावकरण विधि या अंकगणितीय प्रगति के माध्यम से भी समझा जा सकता है, जैसे पृथ्वी 1, जल 2, अग्नि 3, वायु 4 और आकाश 5, इनका योग होकर यह 15 बनता है।

नित्य देवी के नाम । 16 Nitya Devi Name । 16 Nitya Devi mantras

नित्य देवी के नाम । 16 Nitya Devi Name   

  1. कामेश्वरी
  2. भगमालिनी
  3. नित्यक्लिन्ना
  4. भेरुंडा
  5. वह्निवासिनी
  6. महावज्रेश्वरी
  7. शिवादुति 
  8. त्वरिता
  9. कुलसुंदरी 
  10. नित्या
  11. नीलपताका
  12. विजया
  13. सर्वमंगला
  14. ज्वालामालिनी
  15. चित्रा
  16. श्री ललिता त्रिपुरासुंदरी 

 

नित्य देवी के मंत्र ।  16 Nitya Devi Mantras

 कामेश्वरी मंत्र :

“ऐं ह्रीं श्रीं अम ऐं सा का ला ह्रीं नित्यक्लिंने मदाद्रवे सौः अम कामेश्वरी नित्य श्री पादुकाम पूजयामि तर्पयामि नमः।”

 

भगमालिनी मंत्र :

“ऐं ह्रीं श्रीं अम ऐं भगबुगे भगिनी भगोदरि भगमले भगवहे भगगुह्ये भगयोनि भगनिपति सर्वभगवशंकरी भगरूपे नित्यक्लिंने भगस्वरुपे सर्वाणि भगनि में ह्यन्या वरदे रेते सुरेते भगक्लिंने क्लिनद्रवे क्लेदय द्रवय अमोघे भगविच्चे क्षुभा क्षोभय सर्वासत्वं भगोदरि ऐम ब्लम जेम ब्लम भम ब्लम माँ ब्लम हेम ब्लम हेम क्लिन सर्वाणि भगनि मे वशमनाय स्त्रीं हारा ब्लेम ह्रीं अम भगमालिनी नित्य श्री पादुकाम पूजयामि तर्पयामि नमः

नित्यक्लिन्ना मंत्र :

 “ऐं ह्रीं श्रीं नित्यक्लींने मदाद्रवे स्वाहा इम नित्यक्लिंन नित्य श्री पादुकाम पूजयामि तर्पयामि नमः।”

 

भेरुंडा मंत्र :

“ऐं ह्रीं श्रीं इम ओम क्रोम भ्रोम क्रौं झ्मरौं चच्रौं ज्रौं स्वाहा इम भेरुंडा नित्य श्री पादुकाम पूजयामि तर्पयामि नमः।”

 

 वह्निवासिनी मंत्र :

है “ॐ ह्रीं वह्निवासिनीयै नमः।”

 

महावज्रस्वरी मंत्र :

“ऊं ह्रीं क्लीं ऐं क्रोम नित्यमद्रवे ह्रीं ऊम महावज्रेश्वरी नित्य श्री पादुकाम पूजयामि तर्पयामि नमः।”

 

शिवदूती मंत्र : 

“ऐं ह्रीं श्रीं शिवदूत्यै नमः शिवदूतिनित्य श्री पादुकाम पूजयामि तर्पयामि नमः।”

 

त्वरिता मंत्र :  

“ॐ ह्रीं हुं खे च च क्षः स्त्रीं हुं कसे ह्रीं फट्।”

 

कुलसुंदरी मंत्र :

“ऐं ह्रीं श्रीं ऐं क्लीं सौः कुलसुंदरी नित्य श्री पादुकाम पूजयामि तर्पयामि नमः।”

 

नित्य-नित्यम्बा मंत्र :

“हा सा का ला रा दैम हा सा का ला रा डिम हा सा का ला रा दौह नित्य श्री पादुकाम पूजयामि तर्पयामि नमः।”

 

नीलापताका मंत्र :

“ऐं ह्रीं श्रीं फ्रें स्ट्रम क्रॉम अम क्लीं ऐं ब्लम नित्यमदाद्रवे हुं फ्रें ह्रीं एम नीलपताका नित्य श्री पादुकाम पूजयामि तर्पयामि नमः।”

 

विजया मंत्र :

उनका मंत्र है “ऐं ह्रीं श्रीं भा मा रा या ऊं ऐं विजया नित्य श्री पादुकाम पूजयामि तर्पयामि नमः।”

 

सर्वमंगला मंत्र :

उनका मंत्र है “ऐं ह्रीं श्रीं स्वौं ओम सर्वमंगला नित्य श्री पादुकाम पूजयामि तर्पयामि नमः।”

 

ज्वालामालिनी मंत्र :

“ओम नमो भगवती ज्वालामालिनी देवादेवी सर्वभूतसम्हारकारिके जतवेदसि ज्वलन्ति ज्वला ज्वला प्रज्वला प्रजवला ह्रीं ह्रीं हुं राम राम राम राम राम राम ज्वालमालिनी हुं फट् स्वाहा।”

 

चित्रा मंत्र :

“ऐं ह्रीं श्रीं चकौम अम चित्रा नित्य श्री पादुकाम पूजयामि तर्पयामि नमः।”

 

16 Nitya Devi mantras Dhyana Shloka

नित्य देवी ध्यान श्लोक Tithi Nitya Devi Dhyana Shloka 

कामेश्वरी 


देवीं ध्यायेज्जगद्धात्रीं जपाकुसुमसन्निभां
बालभानुप्रतीकाशां शातकुम्भसमप्रभाम् ।
रक्तवस्त्रपरीधानां सम्पद्विद्यावशङ्करीं
नमामि वरदां देवीं कामेशीमभयप्रदाम् ॥ १ ॥

भगमालिनी 

भगरूपां भगमयां दुकूलवसनां शिवां
सर्वालङ्कारसम्युक्तां सर्वलोकवशङ्करीम् ।
भगोदरीं महादेवीं रक्तोत्पलसमप्रभां
कामेश्वराङ्कनिलयां वन्दे श्रीभगमालिनीम् ॥ २ ॥

नित्यक्लिन्ना 


पद्मरागमणिप्रख्यां हेमताटङ्कभूषितां
रक्तवस्त्रधरां देवीं रक्तमाल्यानुलेपनाम् ।
अञ्जनाञ्चितनेत्रान्तां पद्मपत्रनिभेक्षणां
नित्यक्लिन्नां नमस्यामि चतुर्भुजविराजिताम् ॥ ३ ॥

भेरुण्डा 

शुद्धस्फटिकसङ्काशां पद्मपत्रसमप्रभां
मध्याह्नादित्यसङ्काशां शुभ्रवस्त्रसमन्विताम् ।
श्वेतचन्दनलिप्ताङ्गीं शुभ्रमाल्यविभूषितां
बिभ्रतीं चिन्मयीं मुद्रामक्षमालां च पुस्तकम् ।
सहस्रपत्रकमले समासीनां शुचिस्मितां
सर्वविद्याप्रदां देवीं भेरुण्डां प्रणमाम्यहम् ॥ ४ ॥

वह्निवासिनि 


वह्निकोटिप्रतीकाशां सूर्यकोटिसमप्रभां
अग्निज्वालासमाकीर्णां सर्वरोगोपहारिणीम् ।
कालमृत्युप्रशमनीमपमृत्युनिवारिणीं
परमायुष्यदां वन्दे नित्यां श्रीवह्निवासिनीम् ॥ ५ ॥

महावज्रेश्वरि 


तप्तकाञ्चनसङ्काशां कनकाभरणान्वितं
हेमताटङ्कसम्युक्तां कस्तूरीतिलकान्विताम् ।
हेमचिन्ताकसम्युक्तां पूर्णचन्द्रमुखाम्बुजां
पीताम्बरसमोपेतां पुष्पमाल्यविभूषिताम् ।
मुक्ताहारसमोपेतां मुकुटेन विराजितां
महावज्रेश्वरीं वन्दे सर्वैश्वर्यफलप्रदाम् ॥ ६ ॥

शिवदूती 

बालसूर्यप्रतीकाशां बन्धूकप्रसवारुणां
विधिविष्णुशिवस्तुत्यां देवगन्धर्वसेविताम् ।
रक्तारविन्दसङ्काशां सर्वाभरणभूषितां
शिवदूतीं नमस्यामि रत्नसिंहासनस्थिताम् ॥ ७ ॥

त्वरिता 


रक्तारविन्दसङ्काशामुद्यत्सूर्यसमप्रभां
दधतीमङ्कुशं पाशं बाणं चापं मनोहरम् ।
चतुर्भुजां महादेवीमप्सरोगणसङ्कुलां
नमामि त्वरितां नित्यां भक्तानामभयप्रदम् ॥ ८ ॥

कुलसुन्दरी 

अरुणकिरणजालैरञ्जिताशावकाशा
विधृतजपवटीका पुस्तकाभीतिहस्ता ।
इतरकरवराढ्या फुल्लकह्लारसंस्था
निवसतु हृदि बाला नित्यकल्याणशीला ॥ ९ ॥

नित्या

उद्यत्प्रद्योतननिभां जपाकुसुमसन्निभां
हरिचन्दनलिप्ताङ्गीं रक्तमाल्यविभूषिताम् ।
रत्नाभरणभूषाङ्गीं रक्तवस्त्रसुशोभितां
जगदम्बां नमस्यामि नित्यां श्रीपरमेश्वरीम् ॥ १० ॥

नीलपताका 

पञ्चवक्त्रां त्रिनयनामरुणांशुकधारिणीं
दशहस्तां लसन्मुक्ताप्रायाभरणमण्डिताम् ।
नीलमेघसमप्रख्यां धूम्रार्चिसदृशप्रभां
नीलपुष्पस्रजोपेतां ध्यायेन्नीलपताकिनीम् ॥ ११ ॥

विजया 

उद्यदर्कसमप्रभां दाडिमीपुष्पसन्निभां
रत्नकङ्कणकेयूरकिरीटाङ्गदसम्युताम् ।
देवगन्धर्वयोगीशमुनिसिद्धनिषेवितां
नमामि विजयां नित्यां सिंहोपरिकृतासनाम् ॥ १२ ॥

सर्वमङ्गला 

रक्तोत्पलसमप्रख्यां पद्मपत्रनिभेक्षणां
इक्षुकार्मुकपुष्पौघपाशाङ्कुशसमन्विताम् ।
सुप्रसन्नां शशिमुखीं नानारत्नविभूषितां
शुभ्रपद्मासनस्थां तां भजामि सर्वमङ्गलाम् ॥ १३ ॥

ज्वालामालिनी 

अग्निज्वाला समाभाक्षीं नीलवक्त्रां चतुर्भुजां
नीलनीरदसङ्काशां नीलकेशीं तनूदरीम् ।
खड्गं त्रिशूलं बिभ्राणां वरांसाभयमेव च
सिंहपृष्ठसमारूढां ध्यायेज्ज्वालाद्यमालिनीम् ॥ १४ ॥

चित्रा 

शुद्धस्फटिकसङ्काशां पलाशकुसुमप्रभां
नीलमेघप्रतीकाशां चतुर्हस्तां त्रिलोचनाम् ।
सर्वालङ्कारसम्युक्तां पुष्पबाणेक्षुचापिनीं
पाशाङ्कुशसमोपेतां ध्यायेच्चित्रां महेश्वरीम् ॥ १५ ॥

ललिता 

आरक्ताभां त्रिनेत्रामरुणिमवसनां रत्नताटङ्करम्यां
हस्ताम्भोजैः सपाशाङ्कुशमदनधनुः सायकैर्विस्फुरन्तीम् ।
आपीनोत्तुङ्गवक्षोरुहकलशलुठत्तारहारोज्ज्वलाङ्गीं
ध्यायेदम्भोरुहस्थामरुणिमवसनामीश्वरीमीश्वराणाम् ॥ १६ ॥


यह भीं पढ़े :

 


 

Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Powered By
100% Free SEO Tools - Tool Kits PRO