अमावस्या के प्रकार : जानें सभी अमावस्या के नाम

अमावस्या, हिंदू पंचांग के अनुसार, चंद्रमा का अभाव के समय को सूचित करती है। यह एक महत्वपूर्ण धार्मिक, सामाजिक और आध्यात्मिक घटना है जो हमारे जीवन के विभिन्न पहलुओं को प्रभावित करती है। इस दिन का महत्व धार्मिक, सामाजिक और आध्यात्मिक दृष्टि से बहुत उच्च माना जाता है। यहां हम अमावस्या के अनुसार अलग-अलग (अमावस्या के प्रकार) की विस्तृत चर्चा करेंगे और इसके महत्व को समझेंगे।

अमावस्या का महत्व:

अमावस्या को हिंदू धर्म में विभिन्न धार्मिक कार्यों के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है। इस दिन को पितृपक्ष के रूप में भी जाना जाता है, जब पितृदेवों की श्राद्ध और तर्पण किया जाता है। अमावस्या को चंद्र और सूर्य के मिलन का काल माना जाता है, जिसके चलते यह दिन रात्रि को अधिक अंधेरे के कारण जानी जाती है। इसके अलावा, यह एक महत्वपूर्ण समय होता है जब ध्यान, पूजा, अर्चना और धर्मिक कार्यों का अध्ययन किया जाता है।

अमावस्या के अनुसार अमावस्या के प्रकार

प्रमुख अमावस्याएं:

  1. सोमवती अमावस्या: इस अमावस्या को सोमवार के दिन पड़ने पर खास महत्व दिया जाता है। यह अमावस्या विवाहित जीवन की लंबाई और पति की लंबी आयु के लिए महिलाओं के द्वारा विशेष उपवास अनुष्ठान किया जाता है।
  2. भौमवती अमावस्या: इस अमावस्या को मंगलवार को पड़ने पर महत्व दिया जाता है। इस दिन को व्रत रखकर कर्ज से मुक्ति प्राप्त की जाती है।
  3. मौनी अमावस्या: यह अमावस्या हिंदू महीने माघ में आती है और आध्यात्मिक रूप से महत्वपूर्ण मानी जाती है। इस दिन को मौन रहकर ध्यान और ध्यान का अभ्यास किया जाता है।
  4. शनि अमावस्या: इस अमावस्या को शनिवार के दिन पड़ने पर व्रत रखकर शनि के दोष से मुक्ति प्राप्त की जाती है।
  5. महालय अमावस्या: इस अमावस्या को पितृपक्ष के रूप में भी जाना जाता है और इस दिन अन्न दान और तर्पण किया जाता है।
  6. हरियाली अमावस्या: इस अमावस्या को श्रावण मास में मनाया जाता है और इस दिन पौधा रोपण का महत्व होता है।
  7. दिवाली अमावस्या: इस अमावस्या को कार्तिक मास की अमावस्या कहा जाता है और इसे दीपोत्सव के रूप में मनाया जाता है।
  8. कुशग्रहणी अमावस्या: इस अमावस्या को कुश एकत्रित करने के कारण कुशग्रहणी अमावस्या कहा जाता है।

ये अमावस्याएं हमें धार्मिक, सामाजिक और आध्यात्मिक दृष्टि से अपने जीवन में सुधार और समृद्धि का मार्ग दिखाती हैं। इन दिनों पर उपवास, ध्यान, पूजा-अर्चना और दान-पुण्य के अच्छे काम किए जाते हैं, जिससे हम आत्मा को शुद्धि और ऊर्जा का स्रोत प्राप्त करते हैं। इस प्रकार, अमावस्या हमारे जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा है और हमें धार्मिक और सामाजिक संस्कृति के साथ जुड़े रहने का अवसर प्रदान करती है।

अमावस्या के प्रकार :12 माह के नामों पर आधारित

  1. चैत्र अमावस्या: यह हिंदू माह चैत्र में होती है, जो कि मार्च या अप्रैल के महीने में आता है। यह कुछ क्षेत्रों में हिंदू नववर्ष की शुरुआत के रूप में माना जाता है और आध्यात्मिक अनुष्ठानों के लिए शुभ माना जाता है।
  2. वैशाख अमावस्या: यह हिंदू माह वैशाख में होती है, जो कि अप्रैल या मई के महीने में होता है। यह पूजा-पाठ और आध्यात्मिक शुद्धि के लिए महत्वपूर्ण है।
  3. ज्येष्ठ अमावस्या: ज्येष्ठ माह में आती है, जो कि मई या जून के महीने में होता है। इसे अच्छे स्वास्थ्य और धन के लिए शुभ माना जाता है।
  4. आषाढ़ अमावस्या: यह हिंदू माह आषाढ़ में होती है, जो कि जून या जुलाई के महीने में होता है। इसे पूजा-पाठ और आध्यात्मिक शुद्धि के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है।
  5. श्रावण अमावस्या: यह हिंदू माह श्रावण में होती है, जो कि जुलाई या अगस्त के महीने में होता है। यह उपवास करने और शांति, संतुलन और सफलता के लिए प्रार्थना करने के लिए महत्वपूर्ण है।
  6. भाद्रपद अमावस्या: यह हिंदू माह भाद्रपद में होती है, जो कि अगस्त या सितंबर के महीने में होता है। इस दिन पितृ तर्पण और आशीर्वाद के लिए महत्वपूर्ण है।
  7. आश्वयुज अमावस्या: आश्वयुज मास में होती है, जो कि सितंबर या अक्टूबर के महीने में होता है। इस दिन के दौरान पितृ पूजन और दान करने का महत्व है।
  8. कार्तिक अमावस्या: यह हिंदू माह कार्तिक में होती है, जो कि अक्टूबर या नवंबर के महीने में होता है। इस दिन पूजा, ध्यान और तपस्या करने का महत्व है।
  9. मार्गशीर्ष अमावस्या: यह हिंदू माह मार्गशीर्ष में होती है, जो कि नवंबर या दिसंबर के महीने में होता है। इस दिन तीर्थयात्रा, पूजा, ध्यान और दान करने का महत्व है।
  10. पौष अमावस्या: यह हिंदू माह पौष में होती है, जो कि दिसंबर या जनवरी के महीने में होता है। इस दिन तीर्थयात्रा, ध्यान और पर्वण करने का महत्व है।
  11. माघ अमावस्या: यह हिंदू माह माघ में होती है, जो कि जनवरी या फरवरी के महीने में होता है। इस दिन के दौरान स्नान, पूजा और दान करने का महत्व है।
  12. फाल्गुन अमावस्या: यह हिंदू माह फाल्गुन में होती है, जो कि फरवरी या मार्च के महीने में होता है। इस दिन को पूजा, ध्यान, तीर्थयात्रा और दान करने का महत्व है।

इसे भी पढ़े:

Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Powered By
100% Free SEO Tools - Tool Kits PRO