Amavasya 2024 List : जानें इस साल अमावस्या की सम्पूर्ण सूची और तिथियाँ

Amavasya 2024 List : हिंदी कैलेंडर के अनुसार, हर महीने की एक महत्वपूर्ण तिथि होती है। यह तिथि चंद्रमा के अभाव को दर्शाती है और हिन्दू पंचांग में धार्मिक और सामाजिक कार्यों के लिए महत्वपूर्ण मानी जाती है। इस पर्व की तारीखों की जानकारी आपको उन विशेष वर्षों के लिए प्रदान की जाती है जब चंद्रमा का अभाव होता है।

अमावस्या का दिन विशेष रूप से पितृ पूजा, धार्मिक अनुष्ठान और दान-धर्म के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है। इसके अलावा, कुछ लोग अमावस्या के दिन व्रत रखते हैं और ध्यान अथवा ध्यान के माध्यम से अपने आत्मा की शुद्धि का प्रयास करते हैं। यहां, हम अमावस्या 2024 की तारीखों की सूची [Amavasya 2024 List ] प्रदान कर रहे हैं।

अमावस्या 2024 लिस्ट और तिथियाँ (Amavasya 2024 List)

अमावस्या 2024 लिस्ट वह विशेष समय है जब समय की गहराई में अंधकार छा जाता है और प्रकृति का विशेष रहस्यमयी सौंदर्य प्रकट होता है। इस साल की अमावस्या की सूची में सभी महत्वपूर्ण तिथियाँ शामिल हैं, जो हमें धार्मिक और आध्यात्मिक दृष्टि से महत्वपूर्ण संदेश प्रदान करती हैं। यहाँ आपको पूरी सूची और उनका महत्व जानने का मौका मिलेगा, जिससे आप इस विशेष समय की महत्वपूर्णता को समझ सकें।

जानें इस साल अमावस्या की सम्पूर्ण सूची और तिथियाँ अमावस्या,

तिथिअमावस्याआरंभ का समयसमाप्ति का समय
11 जनवरी 2024पौष अमावस्या10 जनवरी 2024, शाम 08:1011 जनवरी 2024, शाम 05:26
9 फरवरी 2024माघ अमावस्या9 फरवरी 2024, सुबह 08:0210 फरवरी 2024, सुबह 04:28
10 मार्च 2024फाल्गुन अमावस्या9 मार्च 2024, शाम 06:1710 मार्च 2024, दोपहर 02:29
8 अप्रैल 2024चैत्र अमावस्या8 अप्रैल 2024, सुबह 03:218 अप्रैल 2024, रात्रि 11:50
7 मई 2024वैशाख अमावस्या7 मई 2024, दोपहर 11:408 मई 2024, सुबह 08:51
6 जून 2024ज्येष्ठ अमावस्या5 जून 2024, शाम 07:546 जून 2024, शाम 06:07
5 जुलाई 2024आषाढ़ अमावस्या5 जुलाई 2024, सुबह 04:576 जुलाई 2024, सुबह 04:26
4 अगस्त 2024श्रावण अमावस्या3 अगस्त 2024, दोपहर 03:504 अगस्त 2024, दोपहर 04:42
2 सितंबर 2024भाद्रपद अमावस्या2 सितंबर 2024, सुबह 05:213 सितंबर 2024, सुबह 07:24
2 अक्टूबर 2024आश्विन अमावस्या1 अक्टूबर 2024, रात्रि 09:33 अक्टूबर 2024, दोपहर 12:18
1 नवंबर 2024कार्तिक अमावस्या31 अक्टूबर 2024, दोपहर 03:521 नवंबर 2024, दोपहर 06:16
30 नवंबर 2024मार्गशीर्ष अमावस्या30 नवंबर 2024, सुबह 10:291 दिसंबर 2024, सुबह 11:50
30 दिसंबर 2024पौष अमावस्या30 दिसंबर 2024, सुबह 04:0131 दिसंबर 2024, सुबह 03:56

(तिथि और समय स्रोत: दृक्पंचांग)

(नोट: तिथियों/समय में परिवर्तन हो सकता है; यहां उपलब्ध जानकारी के अनुसार विवरण दिए गए हैं।)

अमावस्या का अंधकारमय पहलु:

अमावस्या, या अमावस्या का दिन, हिंदू संस्कृति में एक महत्वपूर्ण पहलू है। इस दिन का महत्व तो अच्छे कार्यों की समर्थना के साथ ही, नकारात्मक प्रभावों को भी माना जाता है। चलिए, हम इस दिन के उन पहलुओं पर ध्यान देते हैं जो मानव जीवन को कैसे प्रभावित कर सकते हैं, नवजात शिशुओं के लिए क्या अर्थ हो सकता है, और कुछ ज्योतिषीय संबंधित तथ्यों को भी देखते हैं।

  • कोई शुभ आयोजन नहीं: अमावस्या को एक प्रतिकूल समय माना जाता है और लोग इस दिन किसी भी अच्छे कार्य या आयोजन में शामिल होने से बचते हैं। उन्हें इस दिन नई शुरुआतें करने का सलाह नहीं दी जाती।
  • मानव स्वभाव पर प्रभाव: अमावस्या के दिन लोगों का मानना ​​है कि नकारात्मक ऊर्जाएं उनके व्यवहार पर प्रभाव डालती हैं, जो उन्हें अधिक असुरक्षित बना सकती हैं।
  • नवजात शिशुओं पर प्रभाव: इस दिन जन्म लेने वाले शिशुओं को भी इस ऊर्जा का असर हो सकता है, और इससे उनकी भविष्य की प्रक्रिया पर प्रभाव पड़ सकता है।
  • चंद्र ग्रहण: अमावस्या चंद्र ग्रहण के साथ आती है, जो ग्रहण के समय उत्पन्न होती है।
  • एक अपशकुन: ज्योतिष के अनुसार, इस दिन को शुभ कार्यों की शुरुआत के लिए अशुभ माना जाता है।
  • आंतरिक सद्भाव के मुद्दे: अमावस्या के दौरान कुछ लोगों को अपने आंतरिक स्व से जुड़ी मुद्दों का सामना करना पड़ सकता है।
  • नकारात्मक कलाओं का अभ्यास: कुछ लोग इस दिन बुराई और काले जादू जैसी हानिकारक प्रथाओं में संलग्न होते हैं।
  • अमावस्यादोष: कुछ लोग इस दोष को जन्म कुंडली में समस्याएँ और बाधाएँ आने वाली मानते हैं और इसका उनके जीवन पर प्रभाव हो सकता है।

अमावस्या के दौरान क्या करें और क्या न करें:

अमावस्या के दौरान करने के लिए काम:

  1. घर की सफ़ाई: अपने घर को साफ़-सुथरा रखें और अनावश्यक वस्तुओं को हटा दें।
  2. धन की तलाश: धन की तलाश में हैं तो विष्णु से जुड़ा एक पीला त्रिकोणीय झंडा प्रदर्शित करें।
  3. बाधाओं को दूर करना: कठिनाइयों को दूर करने के लिए एक चम्मच दूध प्रवाहित करें या जौ को दूध में धोकर किसी बहती नदी या झरने में बहा दें।
  4. शांति को बढ़ावा दें: घर में सुख-शांति बढ़ाने के लिए गाय को पांच फल खिलाएं।
  5. रोजगार संबंधी समस्याओं का समाधान: नींबू को आधा काटकर चार अलग-अलग दिशाओं में फेंकें।
  6. पूर्वजों की पूजा: अपने पितरों के लिए तर्पण करें।
  7. बड़ों का सम्मान: अपने बड़ों, विशेषकर माता-पिता का सम्मान करें।
  8. भोजन दान करें: गरीबों और जरूरतमंदों को खाद्य सामग्री दें।
  9. देवी काली की पूजा करें: देवी काली की पूजा करें जो अमावस्या दोष को कम करने में मदद कर सकती है।
  10. शिव पूजा: भगवान शिव की पूजा करें और ‘ओम नमः शिवाय’ का 108 बार जाप करें।

अमावस्या के दौरान न करें:

  1. शारीरिक संबंध: शारीरिक संबंध बनाने से बचें।
  2. पितरों को अप्रसन्न करना: पितरों को नाराज न करें।
  3. देर से जागना: देर से उठने से बचें, यह उचित समय नहीं माना जाता।
  4. क्रोध से बचें: अपने स्वभाव पर नियंत्रण रखें और विनम्र बने रहें।
  5. दान में बाधा न डालें: दूसरों के धर्मार्थ कार्यों में बाधा न डालें।
  6. मांसाहारी भोजन से बचें: मांसाहारी भोजन से बचें।
  7. शुभ समारोहों से बचें: शुभ समारोहों को निर्धारित करने से बचें।
  8. अनाज खरीद: अनाज न खरीदें।
  9. तुलसी के पत्ते तोड़ने से बचें: अमावस्या के दिन तुलसी के पत्ते तोड़ना वर्जित है।
  10. हल्का भोजन: हल्के आहार का सेवन करें।

अमावस्या 2024 लिस्ट का उपरोक्त विवरण हमें यह दिखाता है कि अमावस्या का महत्व और इसके दौरान किए जाने वाले कार्यों का विशेष महत्व है। यह एक समय होता है जब हमें स्वयं के अंदर की ऊर्जा को संदर्भित करने और अपने जीवन के साथियों के प्रति समर्पितता को महसूस करने का समय होता है। इसलिए, अमावस्या के दिनों को संज्ञान में लेकर, हम अपने जीवन में संतुलन और आनंद की प्राप्ति के लिए उपयुक्त दिशा में अग्रसर हो सकते हैं।


इसे भी पढ़े:

Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Powered By
100% Free SEO Tools - Tool Kits PRO