करुप्पासामी मंत्र : पूर्ण करें अपनी सुरक्षा, इच्छा-पूर्ति और कल्याण

करुप्पासामी, तमिलनाडु के गाँव देवताओं में सर्वाधिक माने जाने वाले देवता हैं, जो गाँव के सक्रिय संरक्षक देवता के रूप में विशेष रूप से पूजा जाता हैं। आज भी, दक्षिणी तमिल अपने बच्चों को करुप्पन, करुप्पासामी, और करुप्पई जैसे नामों से नामकरण करने को प्राथमिकता देते हैं। इस देवता के बिना कुछ गाँव अधूरे हैं। उन्हें दक्षिण तमिल के अम्मान मंदिरों में एक विशेष गर्भगृह में भी स्थान प्राप्त है।

करुप्पासामी की खास पहचान उनकी घनी मूंछों, लाल होंठों, झुकी हुई आंखों, लंबी दाढ़ी, और एक शानदार गाड़ी के साथ है। उनके लंबे कद, राय रखने का अयाल, तेज गति, और तेजतर्रार खेल उन्हें एक विशेष रूप से विविधता में अग्रणी बनाते हैं। वे सभी शत्रुओं के लिए सिंह की भावना से युक्त हैं और झूठ या धोखा उनके लिए स्वीकृत नहीं हैं। करुप्पासामी विश्वासी लोगों के लिए एक रक्षक के रूप में पूजे जाते हैं, जो उन्हें विरोध करने वालों के खिलाफ सुरक्षित रखते हैं।

करुप्पासामी को परमशिव और भद्रकाली के स्वरूप में पूजा जाता है और उन्हें पेरियंदावर भी कहा जाता है। यह मान्यता प्राप्त है कि वे सभी संपत्ति, खुशी, लोग, गाय, और भूमि के संरक्षक हैं। उनके पूजार्थी उनसे दुश्मन का भय दूर करने, हत्या और डकैती को रोकने की कामना करते हैं, और वे गरीबों और विनम्र लोगों की सेवा करने का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए प्रार्थना करते हैं।

भगवान करुप्पास्वामी के रूप

भगवान करुप्पास्वामी का पूजन विभिन्न रूपों में किया जाता है, और इसके आधार पर उन्हें विभिन्न नाम दिए जा रहे हैं। चाहे करुप्पास्वामी विभिन्न शस्त्रों के साथ खड़ा या बैठा हो, इन रूपों में बहुत सारी भिन्नताएं नहीं हैं।

माना जाता है कि भगवान करुप्पास्वामी के 108 रूप हैं। उन 108 रूपों में, यहां कुछ प्रसिद्ध हैं।

  • पदिनेत्ताम पड़ि करुप्पास्वामी
  • संगीली करुप्पास्वामी
  • संदाना करुप्पास्वामी
  • संदाना करुप्पास्वामी
  • पेरिया करुप्पास्वामी
  • छिन्ना करुप्पास्वामी
  • एल्लै करुप्पास्वामी
  • मुथु करुप्पास्वामी
  • मलई करुप्पास्वामी
  • वेत्तै करुप्पास्वामी
  • तोप्पू करुप्पास्वामी

भगवान करुप्पासामी की पूजा

भगवान करुप्पासामी की पूजा गैर-वैदिक और गैर-अगैमिक रूप में, लोक कथाओं, लोक गीतों, और लोक कलाओं के माध्यम से की जाती है। स्थानीय पुजारी इस पूजा में उपासकों को फूल, विभूति, या पवित्र फूल चढ़ाने का अनुमति देते हैं और शमनवाद के लिए एक दैवज्ञ की भूमिका निभा सकते हैं।

कबीले प्रणाली के अंतर्गत, विभिन्न व्यक्तियों को वार्षिक बारी के आधार पर दैवज्ञ की भूमिका निभाने के लिए पहचाना जाता है। वे व्रत करते हैं और व्रत की अवधि के दौरान शुद्धता और पवित्रता का पालन करते हैं। त्योहारों के दौरान, दैवज्ञ ट्रान्स अवस्था (सामी अदुधल) में आकर समूह को संदेश देते हैं। सामुदायिक समूह के भीतर स्थानीय पैतृक देवता की सहमति से विभिन्न समस्याओं का समाधान किया जाता है।

जब लोगों की इच्छाएं पूरी होती हैं, तो वे अपनी प्रतिज्ञा के आधार पर प्रसाद बांटते हैं, जिसमें दूध, कपूर, चावल, मक्खन, लौंग, घी, चुरूट और शराब शामिल हो सकते हैं। इसके अलावा, बकरी, सूअर, और मुर्गे जैसे जानवरों की भी बलि भी दी जाती है।

करुप्पासामी मंत्र । Karuppasamy Mantra

"क्लीं हाम् कर्रुपस्वामी स्वाहा" 

इस मंत्र का अर्थ है “करुप्पासामी, मैं आपकी ओर समर्पित हूँ।” इस मंत्र का नियमित जाप करने से मान्यता है कि भगवान करुप्पासामी आपकी सुरक्षा में समर्थ हैं और आपके जीवन में सकारात्मक परिवर्तन लाएंगे।

करुप्पासामी मूल मंत्र: । Karuppasamy Moola Mantra

ॐ क्रुम असितांगाय  
महावीर पराक्रमाय 
कथादाराय
ठुम्र नेत्राय 
दम्ष्ट्र करालय मालादाराय 
नीलाभाराय 
सर्व
बाबकने 
सर्व पेयग्ने 
शिवपुत्राय 
कृताय 
कृपाकराय स्वाहा

करुप्पासामी गायत्री मंत्र । Karuppasamy Gayatri Mantra

“ओम क्रूं असितांगाय महाशस्त्रुपरिवाराय नमः

करुप्पासामी से जुड़ने का तरीका

करुप्पासामी के संप्रदाय में जुड़ने के लिए निम्नलिखित कदम अनुसरण करें:

  1. समय का चयन: करुप्पासामी रात 8.20 बजे सबसे अधिक सक्रिय होते हैं। आप किसी भी दिन करुप्पासामी से बात करने का समय निर्धारित कर सकते हैं।
  2. भगवान की ध्यान में: करुप्पासामी के रूप की कल्पना करें, जैसे कि वे सफेद घोड़े पर सवारी करते हुए बिल-हुक वाली छुरी पकड़ते हैं।
  3. आभारी भावना: भगवान को आपके जीवन में दिए गए आशीर्वाद के लिए आभारी भावना से धन्यवाद प्रदान करें।
  4. निजी और व्यक्तिगत संबंध: करुप्पासामी से उनके साथ अधिक निजी और व्यक्तिगत होने के लिए दिल से पूछें और उनसे अपने साथ रहने के लिए दैनिक अनुरोध करें।
  5. मंत्र जाप: “क्लीं हाम् कर्रुपस्वामी स्वाहा” मंत्र का नियमित जाप करें, कम से कम 9 बार।
  6. व्यक्तिगत अनुरोध: करुप्पासामी से अपने आत्मिक और आर्थिक मुद्दों को साझा करें और उनसे सहायता के लिए अनुरोध करें।
  7. निजता में बनी रहें: ध्यान और उपासना के दौरान खुद को समर्पित रखें और कमजोरी से सख्त तकनीक से नहीं, बल्कि प्रेमपूर्ण आदेश के साथ करुप्पासामी से मिलें।
  8. अन्यों की सेवा: करुप्पासामी भक्त के रूप में, अन्यों की सेवा करने का उपदेश भी मिलता है, जो उनके गुणों को अपनाने के लिए उत्साहित करता है।

इन कदमों को अनुसरण करके आप करुप्पासामी से मजबूत आत्मिक संबंध स्थापित कर सकते हैं और उनसे आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं।

करुप्पासामी मंत्र के जाप के लाभ

करुप्पासामी करुप्पासामी मंत्र के जाप के लाभ
  • बुराई से सुरक्षा: करुप्पासामी की पूजा और उनके शक्तिशाली मंत्र का जाप बुराई, मंत्र, काले जादू और ईर्ष्या से बचाता है।
  • आत्म-अनुशासन: इस पूजा और मंत्र के जाप से आत्म-अनुशासन को बढ़ावा मिलता है, जिससे बच्चों में सामरिक और आदर्श गुण स्थापित होते हैं।
  • कठिनाइयों का समाधान: करुप्पासामी की पूजा से कठिनाइयों को जल्दी और आसानी से हल करने में मदद मिलती है।
  • प्रतिकूलता की कमी: इस पूजा से प्रतिकूलता को कम करने में सहायता होती है और जीवन को सुखमय बनाए रखती है।
  • बुरी शक्तियों का नाश: करुप्पासामी की पूजा और उनके शक्तिशाली मंत्र से बुरी शक्तियों, धोखे और विश्वासघात को परास्त करने में सफलता मिलती है।
  • शांति और सुख: इस पूजा के जाप से सुखी और शांत जीवन जीने में मदद मिलती है।
  • समृद्धि और स्वास्थ्य: करुप्पासामी की कृपा से सभी को अच्छे स्वास्थ्य और समृद्धि का आशीर्वाद प्राप्त होता है

FaQs

संगीली करुप्पान कौन है?

संगीली करुप्पान एक प्राचीन तमिल पुरुष देवता है, जो तमिलनाडु और केरल के कुछ हिस्सों में ग्रामीण सामाजिक समूहों के बीच पॉप्युलर हैं। वह एय्यनार के 21 सहयोगी लोक-देवताओं में से एक है और इसलिए उन्हें तमिल भाषा के “कावल देवताओं” में शामिल किया जाता है।

करुप्पासामी कितने प्रकार के होते हैं?

कहा जाता है कि भगवान करुप्पासामी के 108 रूप हैं

करुप्पासामी का क्या महत्व है?

करुप्पासामी का महत्व इसमें है कि वह एक शक्तिशाली संरक्षक देवता है, भक्तों को हानि और विपत्तियों से बचाता है, और सत्य का प्रतीक है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!