प्रत्यंगिरा देवी मंत्र: सभी बुराईयों का नाश करने का अद्भुत मंत्र

प्रत्यंगिरा देवी, जिन्हें नरसिम्ही, नरसिम्हिका, नरसिम्बिगई, और सरबेश्वरी भी कहा जाता है, अपने उग्र रूप और सिंह वाहन के साथ विख्यात हैं। इनके मूल मंत्रों का जाप करने से पूजा में विशेष शक्ति आती है, जो आपके कंपन को मजबूती से भर देती है। प्रत्येक मंत्र में योग्य शब्दांश होते हैं, जो दोहराए जाने पर आपकी प्रार्थनाएं ब्रह्मांड तक पहुंचती हैं और दिव्य इकाई से उत्तर मिलता है। इसलिए, प्रत्यंगिरा देवी के मूल मंत्र का नियमित जाप करना आवश्यक है ताकि उन्हें प्रसन्न किया जा सके।

प्रत्यंगिरा देवी मंत्र

प्रत्यंगिरा देवी, हिंदू धर्म की सबसे चर्चित और शक्तिशाली देवियों में से एक हैं। उनका अवतार सती के रूप में होने के साथ, वे ज्ञान और बुद्धिमत्ता की अद्वितीय स्रोत हैं। इस देवी के मंत्र का जाप हमें न केवल परीक्षा में सफलता दिलाता है, बल्कि जीवन की सभी क्षेत्रों में उन्नति की दिशा में मदद करता है।

प्रत्यंगिरा देवी के मंत्र का जाप विशेष रूप से उनके भक्तों को दुनिया और उसकी निरंतर चलने वाली कार्यप्रणाली को समझने में मदद करता है। इस मंत्र के माध्यम से हम उनकी अद्भुतता को समझ सकते हैं और उनसे जुड़े रह सकते हैं।

प्रत्यंगिरा देवी का रूप विशेष और भयंकर है, जो एक आदमी और एक शेर के रूप में प्रकट होती हैं। उनके चार हाथ में त्रिशूल, सांप और ड्रम हैं, जिन्हें वह उनके शक्तिशाली अवतार को प्रस्तुत करने के लिए उपयोग करती हैं। उनकी आंखें लाल होती हैं और उनकी भयंकर सृष्टि को संजीवनी शक्तियों से युक्त करने के लिए उनकी चेतना है।

“ओम् ह्रीं क्षमा भक्ष ज्वला जिह्वे
प्रत्यंगिरेय क्षमा ह्रींहुं फट्
ऊं ह्रीं धुम उत्तिष्ठ पुरुषि
किम स्वाभिमानी भयं मयसमुपासितं यति शाक्यं अशाक्यं वा ठन्न मय
भगवती संयम्य स्वाहा धुं ह्रीं ॐ”

प्रत्यंगिरा मूल मंत्र

“ॐ ऐं ह्रीं श्रीं क्लीं स्फ्रिं हूं प्रत्यंगिरे मम शत्रुं स्फराय-स्फराय मारय मारय हूं फट् स्वाहा।

“यह मंत्र सर्व शत्रुओं और प्रयोगों का विनाश करने वाला है। परिस्थिति के अनुसार जप कर दशांश गृह करें।

विपरीत प्रत्यंगिरा देवी मंत्र

"ॐ ऐं ह्रीं श्रीं प्रत्यंगिरे मम रक्ष रक्ष मम शत्रुं भंजय-भंजय फे हुं फट् स्वाहा |

प्रत्यंगिरा ध्यान मंत्र

ध्यानम्-

खड्गंकपालंडमरुन्त्रिशूलं सम्बिभ्रति चन्द्रकलावतंसा।

पिंगोर्ध्व-केशासित-भीमद्रंस्त्र भूयादविभूत्या मम भद्रकाली।।

प्रत्यंगिरा गायत्री मंत्र

श्रीप्रत्यंगिरागाय-

'ॐ प्रत्यंगिरायै विद्महे शत्रुनिशुदिन्यै धीमहि तन्नो देवी प्रचोदयात्।'

प्रत्यंगिरा देवी से प्रार्थना करने के लाभ:

प्रत्यंगिरा देवी से प्रार्थना करने के लाभ:

  • शत्रु नाशिनी: प्रत्यंगिरा देवी शत्रुओं का नाश करने वाली है और उनके पूजा से आपके जीवन में सुरक्षितता बनी रहती है।
  • शत्रु रक्षा: पूजा करने से आपके शत्रुओं के प्रति रक्षा मिलती है और आप उन्हें परास्त कर पाते हैं।
  • दुर्भावना का नाश: देवी बुरे इरादों वालों को शिक्षा देती है और उन्हें उनके गलत कार्यों का परिणाम भुगतने का संदेश देती है।

आर्थिक सफलता:

  • व्यापार और नौकरी में सफलता: प्रत्यंगिरा देवी की पूजा से व्यापार, नौकरी, और आर्थिक सफलता में मदद होती है।
  • उच्चतम स्तर पर विजय: उनके मंत्र का जाप करने से आपके व्यवसाय में सुचारू संचालन सुनिश्चित होता है और आप अपने उद्योग में चमका देते हैं।

आत्मविकास और स्वास्थ्य:

  • नकारात्मक ऊर्जा से मुक्ति: पूजा से व्यक्ति नकारात्मक ऊर्जा से मुक्त होता है और सकारात्मकता की दिशा में बदलता है।
  • मानसिक स्वास्थ्य और शांति: प्रत्यंगिरा देवी की पूजा से मानसिक स्वास्थ्य और शांति में वृद्धि होती है, और भक्त को आत्मविश्वास में वृद्धि होती है।

प्रत्यंगिरा देवी मंत्र का जाप करने के लिए सर्वोत्तम दिन और समय

प्रत्यंगिरा देवी मूल मंत्र का जाप करने के लिए सर्वोत्तम दिन और समय:

सर्वोत्तम दिन:

  • प्रतिदिन का जप सर्वोत्तम है।
  • यदि प्रतिदिन नहीं किया जा सकता, तो मंगलवार और शुक्रवार उत्तम हैं।
  • अष्टमी, अमावस्या, और पूर्णिमा भी अच्छे दिन हैं।
  • स्वाति नक्षत्र के दिन भी शुभ माना जाता है।

सर्वोत्तम समय:

  • अष्टमी मंगलवार को या स्वाति नक्षत्र के संयोजन के साथ आने पर विशेष ध्यान देना चाहिए।
  • मंत्र का जाप मंगला होरा के दौरान, सूर्यास्त के बाद, या देर रात को करना उत्तम है।

जप की संख्या:

  • मंत्र का जाप 108 बार या उससे अधिक करना चाहिए।
  • विशेषज्ञता के लिए, 1,008 बार का जाप भी किया जा सकता है।

इन मार्गदर्शनों के अनुसार, प्रत्यंगिरा देवी के मूल मंत्र का जाप आपको अधिक शक्ति और सुख-शांति की प्राप्ति में सहायक हो सकता है।

प्रत्यंगिरा देवी मंत्र का जाप कौन कर सकता है:

  1. उम्र का प्रति:किसी भी उम्र का पुरुष या महिला मंत्र का जाप कर सकता है।
  2. मासिक धर्म के दौरान: मासिक धर्म के दौरान, महिलाओं को नहीं, पुरुषों को भी मंत्र का जाप नहीं करना चाहिए।
  3. धार्मिक स्थिति: धार्मिक स्थितियों में, मंत्र का जाप करने से विरति की आवश्यकता हो सकती है, लेकिन यह अनिवार्य नहीं है।
  4. पूजा की दिशा और स्थान: घर के पूजा कक्ष में बैठकर, पूर्व दिशा की ओर मुख करके, या विशेष धार्मिक स्थल में मंत्र का जाप किया जा सकता है।
  5. वस्त्र: मंत्र जाप करते समय भक्त को लाल वस्त्र पहनना चाहिए, हालांकि यह अनिवार्य नहीं है।
  6. देवी की तस्वीर: मंत्र जाप के समय, भक्त देवी प्रत्यंगिरा की तस्वीर को अपने सामने रख सकता है।

यह सुनिश्चित करने के लिए हमेशा उचित धार्मिक आदिकारी से सलाह लेना चाहिए कि व्यक्ति किसी विशेष स्थिति में मंत्र जाप कर सकता है या नहीं।

प्रत्यंगिरा देवी मंत्र सिद्धि प्राप्त करने के लिए:

यदि आप इस मंत्र को 81 दिनों तक दिन में 1008 बार जाप करते हैं, तो सिद्धियाँ प्राप्त करने का यह एक प्रमुख उपाय है। आप लाल कपड़े में नींबू बांधकर या कुमकुम लगाकर भी मंत्र का जाप कर सकते हैं। कुमकुम को माथे पर सुरक्षा के लिए लगाया जा सकता है जो देवी का आशीर्वाद प्राप्त करने में मदद करता है।

अगर आप नींबू का उपयोग कर रहे हैं, तो आप इसे अपने घर या कमरे के प्रवेश द्वार पर लटका सकते हैं, जिससे अच्छी ऊर्जा को बुरी शक्तियों से बचाया जा सकता है।

पूजा पूरी होने के बाद, आपको देवी को भोग लगाना होगा। नींबू चावल, पुलियोधरा और पनाकम या अन्य लाल फलों का चढ़ाव किया जा सकता है। देवी को लाल रंग के फूल, सुगंधित फूल या चमेली जैसे फूल चढ़ा सकते हैं। आप 18, 27, 36, 45, 54, 63, 72, 81, 90, 99, या 108 चूने के टुकड़ों से बनी माला का भी उपयोग कर सकते हैं।


Leave a Comment

error: Content is protected !!