Guru Chalisa in Hindi: यहां पढे़ं श्री गुरु चालीसा, जानें क्या है महत्व और लाभ

गुरु चालीसा” जो गुरु देवता की महिमा, कृपा, और आशीर्वाद को व्यक्त करने के लिए लिखा गया है। इसमें गुरु देव की पूजा, उनकी महत्वपूर्ण गुण, और उनसे मिलने वाले आत्मिक लाभ को स्तुति रूप में व्यक्त किया गया है। गुरु चालीसा का पाठ करने से श्रद्धालु गुरु देव के प्रति विशेष भक्ति और समर्पण अर्जित करते हैं जो सुनिश्चित करते हैं कि एक दिन भक्तों की गुरु निश्चित रूप से पुकार सुनेंगे।

श्री गुरु चालीसा

॥ दोहा ॥

ॐ नमो गुरुदेवजी, सबके सरजन हार।

व्यापक अंतर बाहर में, पार ब्रह्म करतार॥

देवन के भी देव हो, सिमरुं मैं बारम्बार।

आपकी किरपा बिना, होवे न भव से पार॥

ऋषि-मुनि सब संत जन, जपें तुम्हारा जाप।

आत्मज्ञान घट पाय के, निर्भय हो गये आप॥

गुरु चालीसा जो पढ़े, उर गुरु ध्यान लगाय।

जन्म-मरण भव दुःख मिटे, काल कबहुँ नहीं खाय॥

गुरु चालीसा पढ़े-सुने, रिद्धि-सिद्धि सुख पाय।

मन वांछित कारज सरें, जन्म सफल हो जाय॥

॥ चौपाई ॥

ॐ नमो गुरुदेव दयाला, भक्तजनों के हो प्रतिपाला।

पर उपकार धरो अवतारा, डूबत जग में हंस एक उबारा॥

तेरा दरश करें बड़भागी, जिनकी लगन हरि से लागी।

नाम जहाज तेरा सुखदाई, धारे जीव पार हो जाई॥

पारब्रह्म गुरु हैं अविनाशी, शुद्ध स्वरूप सदा सुखराशी।

गुरु समान दाता कोई नाहीं, राजा प्रजा सब आस लगायी॥

गुरु सन्मुख जब जीव हो जावे, कोटि कल्प के पाप नसावे।

जिन पर कृपा गुरु की होई, उनको कमी रहे नहीं कोई॥

हिरदय में गुरुदेव को धारे, गुरु उसका हैं जन्म सँवारें।

राम–लखन गुरु सेवा जानी, विश्व-विजयी हुए महाज्ञानी॥

कृष्ण गुरु की आज्ञा धारी, स्वयं जो पारब्रह्म अवतारी।

सद्गुरु कृपा अति है भारी, नारद की चौरासी टारी॥

कठिन तपस्या करें शुकदेव, गुरु बिना नहीं पाया भेद।

गुरु मिले जब जनक विदेही, आतमज्ञान महा सुख लेही॥

व्यास, वसिष्ठ मर्म गुरु जानी, सकल शास्त्र के भये अति ज्ञानी।

अनंत ऋषि मुनि अवतारा, सद्गुरु चरण-कमल चित धारा॥

सद्गुरु नाम जो हृदय धारे, कोटि कल्प के पाप निवारे।

सद्गुरु सेवा उर में धारे, इक्कीस पीढ़ी अपनी वो तारे॥

पूर्वजन्म की तपस्या जागे, गुरु सेवा में तब मन लागे।

सद्गुरु-सेवा सब सुख होवे, जनम अकारथ क्यों है खोवे॥

सद्गुरु सेवा बिरला जाने, मूरख बात नहीं पहिचाने।

सद्गुरुनाम जपो दिन-राती, जन्म-जन्म का है यह साथी॥

अन्न-धन लक्ष्मी जो सुख चाहे, गुरु सेवा में ध्यान लगावे।

गुरुकृपा सब विघ्न विनाशी, मिटे भरम आतम परकाशी॥

पूर्व पुण्य उदय सब होवे, मन अपना सद्गुरु में खोवे।

गुरुसेवा में विघ्न पड़ावे, उनका कुल नरकों में जावे॥

गुरुसेवा से विमुख जो रहता, यम की मार सदा वह सहता।

गुरु विमुख भोगे दुःख भारी, परमारथ का नहीं अधिकारी॥

गुरुविमुख को नरक न ठौर, बातें करो चाहे लाख करोड़।

गुरु का द्रोही सबसे बूरा, उसका काम होवे नहीं पूरा॥

जो सद्गुरु का लेवे नाम, वो ही पावे अचल आराम।

सभी संत नाम से तरिया, निगुरा नाम बिना ही मरिया॥

यम का दूत दूर ही भागे, जिसका मन सद्गुरु में लागे।

भूत, पिशाच निकट नहीं आवे, गुरुमंत्र जो निशदिन ध्यावे॥

जो सद्गुरु की सेवा करते, डाकन-शाकन सब हैं डरते।

जंतर-मंतर, जादू-टोना, गुरु भक्त के कुछ नहीं होना॥

गुरू भक्त की महिमा भारी, क्या समझे निगुरा नर-नारी।

गुरु भक्त पर सद्गुरु बूठे, धरमराज का लेखा छूटे॥

गुरुभक्त निज रूप ही चाहे, गुरु मार्ग से लक्ष्य को पावे।

गुरु भक्त सबके सिर ताज, उनका सब देवों पर राज॥

॥ दोहा ॥

यह सद्गुरु चालीसा, पढ़े सुने चित्त लाय।

अंतर ज्ञान प्रकाश हो, दरिद्रता दुःख जाय॥

गुरु महिमा बेअंत है, गुरु हैं परम दयाल।

साधक मन आनंद करे, गुरुवर करें निहाल॥

॥ इति गुरु चालीसा ॥

यह भी पढ़े : माँ दुर्गा चालीसा

Sri Guru Chalisa in English

॥ Doha ॥

ṃ namo gurudevajī, sabake sarajana hāra।

vyāpaka aṃtara bāhara meṃ, pāra brahma karatāra॥

devana ke bhī deva ho, simaruṃ maiṃ bārambāra।

āpakī kirapā binā, hove na bhava se pāra॥

ṛṣi-muni saba saṃta jana, japeṃ tumhārā jāpa।

ātmajñāna ghaṭa pāya ke, nirbhaya ho gaye āpa॥

guru cālīsā jo paḍha़e, ura guru dhyāna lagāya।

janma-maraṇa bhava duḥkha miṭe, kāla kabahu nahīṃ khāya॥

guru cālīsā paḍha़e-sune, riddhi-siddhi sukha pāya।

mana vāṃchita kāraja sareṃ, janma saphala ho jāya॥

॥ chaupai ॥

oṃ namo gurudeva dayālā, bhaktajanoṃ ke ho pratipālā।

para upakāra dharo avatārā, ḍūbata jaga meṃ haṃsa1 ubārā॥

terā daraśa kareṃ baḍa bhāgī, jinakī lagana hari se lāgī।

nāma jahāja terā sukhadāī, dhāre jīva pāra ho jāī॥

pārabrahma guru haiṃ avināśī, śuddha svarūpa sadā sukharāśī।

guru samāna dātā koī nāhīṃ, rājā prajā saba āsa lagāyī॥

guru sanmukha jaba jīva ho jāve, koṭi kalpa ke pāpa nasāve।

jina para kṛpā guru kī hoī, unako kamī rahe nahīṃ koī॥

hiradaya meṃ gurudeva ko dhāre, guru usakā haiṃ janma sa~vāreṃ।

rāma-lakhana guru sevā jānī, viśva-vijayī hue mahājñānī॥

kṛṣṇa guru kī ājñā dhārī, svayaṃ jo pārabrahma avatārī।

sadguru kṛpā ati hai bhārī, nārada kī caurāsī ṭārī॥

kaṭhina tapasyā kareṃ śukadeva, guru binā nahīṃ pāyā bheda।

guru mile jaba janaka videhī, ātamajñāna mahā sukha lehī॥

vyāsa, vasiṣṭha marma guru jānī, sakala śāstra ke bhaye ati jñānī।

anaṃta ṛṣi muni avatārā, sadguru caraṇa-kamala cita dhārā॥

sadguru nāma jo hṛdaya dhāre, koṭi kalpa ke pāpa nivāre।

sadguru sevā ura meṃ dhāre, ikkīsa pīḍha़ī apanī vo tāre॥

pūrvajanma kī tapasyā jāge, guru sevā meṃ taba mana lāge।

sadguru-sevā saba sukha hove, janama akāratha kyoṃ hai khove॥

sadguru sevā biralā jāne, mūrakha bāta nahīṃ pahicāne।

sadgurunāma japo dina-rātī, janma-janma kā hai yaha sāthī॥

anna-dhana lakṣmī jo sukha cāhe, guru sevā meṃ dhyāna lagāve।

gurukṛpā saba vighna vināśī, miṭe bharama ātama parakāśī॥

pūrva puṇya udaya saba hove, mana apanā sadguru meṃ khove।

guru sevā meṃ vighna paḍa़āve, unakā kula narakoṃ meṃ jāve॥

gurusevā se vimukha jo rahatā, yama kī māra sadā vaha sahatā।

guru vimukha bhoge duḥkha bhārī, paramāratha kā nahīṃ adhikārī॥

guru vimukha ko naraka na ṭhaura, bāteṃ karo cāhe lākha karoḍa़।

gurukā drohī sabase būrā, usakā kāma hove nahīṃ pūrā॥

jo sadguru kā leve nāma, vo hī pāve acala ārāma।

sabhī saṃta nāma se tariyā, nigurā nāma binā hī mariyā॥

yama kā dūta dūra hī bhāge, jisakā mana sadguru meṃ lāge।

bhūta, piśāca nikaṭa nahīṃ āve, gurumaṃtra jo niśadina dhyāve॥

jo sadguru kī sevā karate, ḍākana-śākana saba haiṃ ḍarate।।

jaṃtara-maṃtara, jādū-ṭonā, guru bhakta ke kucha nahīṃ honā॥

gurū bhakta kī mahimā bhārī, kyā samajhe nigurā nara-nārī।

gurubhakta para sadguru būṭhe, dharamarāja kā lekhā chūṭe॥

guru bhakta nija rūpa hī cāhe, guru mārga se lakṣya ko pāve।

guru bhakta sabake sira tāja, unakā saba devoṃ para rāja॥

॥ Dohā ॥

yaha sadguru cālīsā, paḍha़e sune citta lāya।

aṃtara jñāna prakāśa ho, daridratā duḥkha jāya॥

guru mahimā beaṃta hai, guru haiṃ parama dayāla।

sādhaka mana ānaṃda kare, guruvara kareṃ nihāla॥

॥ Iti Guru Chalisa ॥

गुरु मंत्र

  1. ॐ गुं गुरुभ्यो नम:।
  2. ॐ गुरुभ्यो नम:।
  3. ॐ परमतत्वाय नारायणाय गुरुभ्यो नम:।
  4. ॐ वेदाहि गुरु देवाय विद्महे परम गुरुवे धीमहि तन्नौ: गुरु: प्रचोदयात्।
  5. गुरुर्ब्रह्मा, गुरुर्विष्णु गुरुर्देवो महेश्वर:।
    गुरुर्साक्षात् परब्रह्म तस्मै श्री गुरुवे नम:।।

गुरु चालीसा का महत्व

Guru Chalisa in Hindi यहां पढे़ं श्री गुरु चालीसा, जानें क्या है महत्व और लाभ -गुरु चालीसा का महत्व
गुरु चालीसा का महत्व

श्री गुरु चालीसा गुरु की महिमा को प्रकट करने वाली एक अद्वितीय स्तोत्र है। गुरु की महिमा चालीस पदों में ही सीमित नहीं हो सकती, बल्कि वह अनंत है। गुरुदेव शिष्य के जन्मांतरों तक आत्मिक प्रगति के साक्षी होते हैं और उनके साथ जब तक पुनर्जन्म नहीं होता, उनका संबंध बना रहता है। गुरु के बिना सद्गति संभावना नहीं है, और गुरु शिष्य परंपरा के रक्षक हैं। श्री गुरुदेव की प्रार्थना और मार्गदर्शन से ही व्यक्ति आत्मा के अनंत सफर में सारी तकलीफों से मुक्त होकर तेजस्वी बन सकता है।

  • सुख-सौभाग्य की वृद्धि: गुरु चालीसा का पाठ सुख-सौभाग्य में वृद्धि करता है।
  • सिद्धि-बुद्धि की प्राप्ति: गुरु चालीसा की कृपा से सिद्धि-बुद्धि प्राप्त होती है।
  • धन, बल और ज्ञान की प्राप्ति: गुरु चालीसा से धन, बल, और ज्ञान की प्राप्ति होती है।
  • तरक्की और सफलता: गुरु चालीसा के प्रभाव से व्यक्ति तरक्की करता है और सफलता प्राप्त करता है।
  • तेजस्वी बनना: गुरु चालीसा की कृपा से इंसान तेजस्वी बनता है और सारी तकलीफें दूर होती हैं।

गुरु चालीसा Pdf

यह भी पढ़े : श्री गणेश चालीसा

Leave a Comment

error: Content is protected !!