108 Names Of Shani Dev । शनि देव के 108 नाम

108 Names Of Shani Dev : शनि देव को हिंदू धर्म में एक महत्वपूर्ण ग्रह माना जाता है जो कर्म, न्याय, धर्म और संघर्ष का प्रतीक है। वह न्याय और धर्म के प्रतिष्ठापक के रूप में जाना जाता है, लेकिन उसके साथ ही उसके प्रभाव से व्यक्ति को दुःख और संघर्ष का सामना भी करना पड़ता है। शनि देव के ये 108 नाम उनके गुणों और महत्व को स्पष्ट करते हैं, और उनके भक्तों को उनकी पूजा और आराधना के माध्यम से शुभ फल प्राप्त करने की प्रेरणा देते हैं। ये नाम शनि देव की महिमा और उनके शक्ति को स्तुति करते हैं, और उनके भक्तों को उनकी कृपा और आशीर्वाद से लाभान्वित होने का आश्वासन देते हैं।

108 Names Of Shani Dev । शनि देव के 108 नाम

Ashtottara Shatanamavali of Lord Shani Dev

Serial No.MantraMeaning
1ॐ श्री शनैश्चराय नमःThe One Who Moves Slowly
2ॐ शान्ताय नमःThe Peaceful One
3ॐ सर्वाभीष्टप्रदायिने नमःThe Fulfiller of All Desires
4ॐ शरण्याय नमःThe Protector
5ॐ वरेण्याय नमःThe Most Excellent One
6ॐ सर्वेशाय नमःThe Lord of All
7ॐ सौम्याय नमःThe Mild One
8ॐ सुरवन्द्याय नमःThe One Who is Fit to be Worshipped by Suras
9ॐ सुरलोकविहारिणे नमःThe One Who Wanders in the World of Suras
10ॐ सुखासनोपविष्टाय नमःSeat
11ॐ सुन्दराय नमःThe Beautiful One
12ॐ घनाय नमःThe Solid One
13ॐ घनरूपाय नमःThe One with a Solid Form
14ॐ घनाभरणधारिणे नमःThe One Who Wears an Iron Ornament
15ॐ घनसारविलेपाय नमःThe One Anointed with Camphor
16ॐ खद्योताय नमःThe Light of the Sky
17ॐ मन्दाय नमःThe Slow One
18ॐ मन्दचेष्टाय नमःThe Slow Moving One
19ॐ महनीयगुणात्मने नमःThe One with Glorious Qualities
20ॐ मर्त्यपावनपदाय नमःThe One (the Worship at) Whose Feet Purifies Mortals
21ॐ महेशाय नमःThe Great Lord
22ॐ छायापुत्राय नमःThe Son of Chaya
23ॐ शर्वाय नमःThe One Who Injures
24ॐ शततूणीरधारिणे नमःThe One Who Bears a Quiver of a Hundred Arrows
25ॐ चरस्थिरस्वभावाय नमःThe One Whose Nature is to Move Steadily
26ॐ अचञ्चलाय नमःThe Steady One
27ॐ नीलवर्णाय नमःThe Blue-Colored One
28ॐ नित्याय नमःThe Eternal One
29ॐ नीलाञ्जननिभाय नमःThe One with the Appearance of Blue Ointment
30ॐ नीलाम्बरविभूशणाय नमःThe One Adorned with a Blue Garment
31ॐ निश्चलाय नमःThe Steady One
32ॐ वेद्याय नमःThe One Who is to be Known
33ॐ विधिरूपाय नमःThe One Who has the Form of the Sacred Precepts
34ॐ विरोधाधारभूमये नमःThe Ground that Supports Obstacles
35ॐ भेदास्पदस्वभावाय नमःThe One Whose Nature is the Place of Separation
36ॐ वज्रदेहाय नमःThe One with a Body Like a Thunderbolt
37ॐ वैराग्यदाय नमःThe Bestower of Non-Attachment
38ॐ वीराय नमःThe Hero
39ॐ वीतरोगभयाय नमःThe One Who is Free of Disease and Fear
40ॐ विपत्परम्परेशाय नमःThe Lord of Successive Misfortune
41ॐ विश्ववन्द्याय नमःThe One Who is Fit to be Worshipped by All
42ॐ गृध्नवाहाय नमःThe One Whose Mount is a Vulture
43ॐ गूढाय नमःThe Hidden One
44ॐ कूर्माङ्गाय नमःThe One with the Body of a Tortoise
45ॐ कुरूपिणे नमःThe One with an Unusual Appearance
46ॐ कुत्सिताय नमःThe One Who is Despised
47ॐ गुणाढ्याय नमःThe One Abounding in Good Qualities
48ॐ गोचराय नमःThe One Associated with the Range of the Senses (the Field of Action)
49ॐ अविद्यामूलनाशाय नमःThe Destroyer of the Root of Ignorance
50ॐ विद्याविद्यास्वरूपिणे नमःThe One Whose Nature is Both Knowledge and Ignorance
51ॐ आयुष्यकारणाय नमःThe Cause of Long Life
52ॐ आपदुद्धर्त्रे नमःThe Remover of Misfortune
53ॐ विष्णुभक्ताय नमःThe Devotee of Vishnu
54ॐ वशिने नमःThe Self-Controlled One

108 Names of Shani Dev (शनि देव के 108 नाम)

108 names of shani dev
108 names of shani dev Pdf
Serial No.MantraMeaning
55ॐ विविधागमवेदिने नमःThe Knower of Manifold Scriptures
56ॐ विधिस्तुत्याय नमःThe One Who is Fit to be Praised with Sacred Rites
57ॐ वन्द्याय नमःThe One Who is Fit to be Worshipped
58ॐ विरूपाक्षाय नमःThe One with Manifold Eyes
59ॐ वरिष्ठाय नमःThe Most Excellent One
60ॐ गरिष्ठाय नमःThe Most Venerable One
61ॐ वज्राङ्कुशधराय नमःThe One who Holds a Thunderbolt-Goad
62ॐ वरदाभयहस्ताय नमःThe One Whose Hands Grant Boons and Remove Fear
63ॐ वामनाय नमःThe Dwarf
64ॐ ज्येष्ठापत्नीसमेताय नमःThe One Whose Wife is Jyestha
65ॐ श्रेष्ठाय नमःThe Most Excellent One
66ॐ मितभाषिणे नमःThe One with Measured Speech
67ॐ कष्टौघनाशकर्त्रे नमःThe Destroyer of an Abundance of Troubles
68ॐ पुष्टिदाय नमःThe Bestower of Prosperity
69ॐ स्तुत्याय नमःThe One Who is Fit to be Praised
70ॐ स्तोत्रगम्याय नमःThe One Who is Accessible Through Hymns of Praise
71ॐ भक्तिवश्याय नमःThe One Who is Subdued by Devotion
72ॐ भानवे नमःThe Bright One
73ॐ भानुपुत्राय नमःThe Son of Bhanu
74ॐ भव्याय नमःThe Auspicious One
75ॐ पावनाय नमःThe Purifier
76ॐ धनुर्मण्डलसंस्थाय नमःThe One Who Stays in the Circle of the Bow
77ॐ धनदाय नमःThe Bestower of Wealth
78ॐ धनुष्मते नमःThe Archer
79ॐ तनुप्रकाशदेहाय नमःThe One Whose Body has a Thin Appearance
80ॐ तामसाय नमःThe One Associated with Tamoguna
81ॐ अशेषजनवन्द्याय नमःThe One Who is Fit to be Worshipped by All Living Beings
82ॐ विशेषफलदायिने नमःThe Bestower of the Fruit of Discrimination
83ॐ वशीकृतजनेशाय नमःThe Lord of Living Beings Who have Accomplished Self-Control
84ॐ पशूनां पतये नमःThe Lord of Animals
85ॐ खेचराय नमःThe One Who Moves Through the Sky
86ॐ खगेशाय नमःThe Lord of Planets
87ॐ घननीलाम्बराय नमःThe One Who Wears a Dense Blue Garment
88ॐ काठिन्यमानसाय नमःThe Stern-Minded One
89ॐ आर्यगणस्तुत्याय नमःThe One Who is Fit to Praised by a Multitude of Aryas
90ॐ नीलच्छत्राय नमःThe One with a Blue Umbrella
91ॐ नित्याय नमःThe Eternal One
92ॐ निर्गुणाय नमःThe One Without Attributes
93ॐ गुणात्मने नमःThe One with Attributes
94ॐ निरामयाय नमःThe One Who is Free from Disease
95ॐ निन्द्याय नमःThe Blamable One
96ॐ वन्दनीयाय नमःThe One Who is Fit to be Worshipped
97ॐ धीराय नमःThe Resolute One
98ॐ दिव्यदेहाय नमःThe One with a Celestial Body
99ॐ दीनार्तिहरणाय नमःThe Remover of the Suffering of Those in Distress
100ॐ दैन्यनाशकराय नमःThe Destroyer of Affliction
101ॐ आर्यजनगण्याय नमःThe One Who is a Member of the Arya People
102ॐ क्रूराय नमःThe Cruel One
103ॐ क्रूरचेष्टाय नमःThe One Who Acts Cruelly
104ॐ कामक्रोधकराय नमःThe Maker of Desire and Anger
105ॐ कलत्रपुत्रशत्रुत्वकारणाय नमःThe Cause of Hostility of Wife and Son
106ॐ परिपोषितभक्ताय नमःThe One Whose Devotees are Supported
107ॐ परभीतिहराय नमःThe Remover of the Greatest Fear
108ॐ भक्तसंघमनोऽभीष्टफलदाय नमःThe Bestower of the Fruits that are Desired in the Minds of a Multitude of Devotees

FaQs

शनि देव कौन हैं?

शनि देव हिन्दू धर्म के देवताओं में से एक हैं, जिन्हें कर्मफल के देवता भी कहा जाता है।

शनि देव का क्या महत्व है?

शनि देव का महत्व कर्मफल को नियंत्रित करने और जन्मकुंडली के दोषों को दूर करने में है।

शनि देव के कितने रूप होते हैं?

शनि देव के सात प्रमुख रूप होते हैं जैसे की धर्मराज, यमराज, काल, चाया पुत्र, वैद्युत, रवि पुत्र और मंदेरा।

शनि देव के कितने प्रकार के उपाय होते हैं जिनसे उनका प्रभाव कम हो सकता है?

शनि देव के उपायों में शनि की शांति के लिए मंत्र, रत्न, यंत्र, तंत्र, राहु-केतु की पूजा, दान-धर्म आदि शामिल होते हैं।

108 Names Of Shani Dev Pdf , Shani Dev 108 Names

शनि देव के 108 नाम हिंदी पीडीएफ फाइल (shani dev 108 names in hindi pdf ) को डाउनलोड करने के लिए निम्नलिखित लिंक पर क्लिक करें:


इसे भी पढ़े :

Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Powered By
Best Wordpress Adblock Detecting Plugin | CHP Adblock