गुरु दत्तात्रेय मंत्र : List of Dattatreya Mantras in Hindi

दत्तात्रेय मंत्र हिंदू धर्म में अत्यंत महत्वपूर्ण माने जाते हैं। दत्तात्रेय, भगवान ब्रह्मा, विष्णु और महेश की एक अद्वितीय संयुक्त रूप हैं और उन्हें आदिगुरु के रूप में समर्पित किया गया है। वे सर्वज्ञ और सर्वशक्तिमान माने जाते हैं, जो सभी संदेशों के प्रतिस्थापक हैं।

यहाँ हम आपके लिए एक सूची तैयार कर रहे हैं, जिसमें विभिन्न प्रकार के दत्तात्रेय मंत्र शामिल हैं जो आपको आत्मिक विकास और समृद्धि की ओर अग्रसर करने में मदद कर सकते हैं।

शांति के लिए दत्तात्रेय मंत्र

यह दत्तात्रेय का एक शांति मंत्र है। हिंदू धर्म में दत्तात्रेय त्रिमूर्ति का संयुक्त रूप हैं, जो ब्रह्मा, विष्णु, और महेश के प्रतीक हैं। यहाँ दत्तात्रेय शाश्वत ईश्वर का प्रतीक हैं। आज के अशांत समय में, यह शांति मंत्र व्यापक रूप से माना जाता है, क्योंकि इससे मनुष्य को आंतरिक और सार्वभौमिक शांति प्राप्त होती है।

नमस्ते भगवान् देव दत्तात्रेय जगत्पते ll
सर्व बाधा प्रशमनं कुरु शांति प्रयच्छ में ll

Namaste bhagwan Dattatreya jagatpate ll
Sarva badha prashamanam kuru shanti prayachh me ll

घरेलू सौहार्द के लिए दत्तात्रेय मंत्र

हिंदू धर्म में अनेक उद्देश्यों के लिए कई मंत्र हैं। घरेलू सद्भाव के लिए यह सात्विक मंत्र गुरुओं के गुरु दत्तात्रेय को समर्पित को है। इस मंत्र का जाप घर में शांति और सद्भाव लाने के लिए किया जाता है, जिससे वातावरण में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है।

Mantra Namaste Bhagvandev Dattatreyo Mahamuniah,
Sarvabadhaprashamanam Kuru Shanti Prayachh Me

नमस्ते भगवन्देव दत्तात्रेयो महामुनिः,
सर्वबाधाप्रशमनं कुरु शांति प्रयच्छ मे.

इस मंत्र का जाप सुबह जल्दी उठकर स्नान करने के बाद 108 बार करना चाहिए। इसके बाद, हथेली में थोड़ा सा जल लेकर घर के सभी कमरों में छिड़कें। ऐसा करने से घर में सद्भाव और शांति का वातावरण बना रहता है।

दत्तात्रेय मंत्र पिछले जन्म के पापों को हटाने के लिए (Mantra to remove past life sins)

हिंदू धर्म में, अनेक समस्याओं का समाधान अलौकिक उपायों के रूप में अनूठे मंत्रों के द्वारा किया जाता है। एक ऐसा मंत्र है दत्तात्रेय मंत्र, जो पिछले जन्म के पापों को दूर करने के लिए प्रयोग किया जाता है। इसे अलौकिक साधना करने वाले लोग उन्हें अपने पिछले जन्मों के पापों की सारी बाधा को मिटाने के लिए किया जाता है। यह दत्तात्रेय मंत्र, मंत्रात्मक श्लोक के रूप में जाना जाता है।

अत्रिपुत्रो महातेजा दत्तात्रेयो महामुनिः ।
तस्य स्मरणमात्रेण सर्वपापैः प्रमुच्यते ॥

Atriputro Mahateja Dattatreyo Mahamuniah
Tasya Smaranmatren Sarvapaapaih Pramuchyte

इस मंत्र का प्रातःकाल में 108 बार जाप करना चाहिए, जब तक यह अनुभव न हो कि पिछले जन्म के पाप दूर हो गए हैं।

इसे भी जरूर पढ़े : दत्तात्रेय साधना मंत्र

परीक्षा से पहले तनाव को दूर करने का दत्तात्रेय मंत्र

यह शाबर मंत्र, जो गुरु दत्तात्रेय को समर्पित है, विद्यार्थियों के लिए विशेष रूप से उपयोगी होता है। इस मंत्र का जाप उन्हें परीक्षा से पहले किया जाता है, ताकि उन्हें परीक्षा के पहले के तनाव से राहत मिल सके। यह मंत्र उनकी स्मृति शक्ति को बढ़ाता है और उनकी बुद्धि को तेज करता है।

जब विद्यार्थी अपनी पढ़ाई शुरू करने से पहले या परीक्षा से पहले, इस मंत्र का 10 बार जाप करता है, तो उसका मन परमात्मा की ओर ध्यान केंद्रित होता है। इस मंत्र का जाप करने से उनका चित्त शांत होता है और उन्हें सहजता से अध्ययन करने की क्षमता प्राप्त होती है।

ॐ दत्ताय साक्षात्काराय नमः

OM DATTAYA SAKSHATKARAYA NAMAH

इसके अतिरिक्त, यह मंत्र उनकी आत्मविश्वास को भी बढ़ाता है और उन्हें परीक्षा में सफलता प्राप्त करने में मदद करता है।

दत्तात्रेय की दर्शन के लिए मंत्र

यह एक अत्यंत गुप्त और दुर्लभ मंत्र है, जो दत्तात्रेय के दर्शन प्राप्त करने का अद्वितीय उपाय है। इस मंत्र में केवल तीन शब्द होते हैं, जिसका उच्चारण करने से व्यक्ति दत्तात्रेय के पास ले जाता है, उनका आशीर्वाद प्राप्त करता है, और अक्सर उनके दर्शन भी होते हैं। इस मंत्र के शक्तिशाली आशीर्वाद से, असंभव कार्य भी संभव हो सकते हैं।

यह मंत्र आध्यात्मिक विकास के लिए होता है, जिसे केवल उच्च साधनाओं की तलाश रहती है।

मंत्र

यडगुलो वानीकं वौषट् ।।

Yadgulo Vanikam, Vaushat ||

इस मंत्र का जाप रात को सोते समय या सोते समय किया जाता है। इसकी संख्या या दिनों की गिनती में कोई नियम नहीं होता है।

संतान प्राप्ति के लिए दत्तात्रेय मंत्र

संतान प्राप्ति के विषय में, आपको ध्यान में रखना चाहिए कि यह ईश्वर की इच्छा है कि आप माता-पिता बनें या नहीं। हालांकि, यदि आपने सभी उपलब्ध चिकित्सा विकल्पों का परीक्षण किया है और फिर भी संतान प्राप्ति में सफल नहीं हो रहे हैं, तो ईश्वर के आशीर्वाद को प्राप्त करने में कोई बुराई नहीं है।

दूरीकृत्य पिशाचार्ति जीवयित्वां मृतं सुतं
योऽभूवभीष्टदः पातु स नः संतानवृद्धीकृत् ||

Durikrutya Pishacharti Jeevayitvam Mrutam Sutam
ploheYobhuvabhishtadah Patu Sa Nah Santanvrudhikrut ||

निम्नलिखित दत्तात्रेय मंत्र को प्रतिदिन 108 बार जाप करना चाहिए, ईमानदारी, विश्वास और भक्ति के साथ। अगर आप गर्भधारण में असफल रहते हैं, तो ध्यान दें कि गुरु दत्तात्रेय आपके जीवन को अन्य रूपों में संतुष्ट बना देंगे।

अपने घर को शुद्ध करने के लिए दत्तात्रेय मंत्र

यह एक शक्तिशाली दत्तात्रेय मंत्र है जो आपके घर, कार्यालय, या किसी अन्य वाणिज्यिक या औद्योगिक स्थान को बुरी आत्माओं, भूतों, नकारात्मक ऊर्जाओं, आवृत्तियों और नकारात्मक कंपनों से मुक्त करने के लिए उपयुक्त है। यह मंत्र आपके घर की सुरक्षा के लिए भी बहुत प्रभावी है।

मंत्र

भूत प्रेत पिशाच्चाद्या यस्य स्मरणमात्रतः ।
दूरादेव पलायंते दत्तात्रेयम् नमामि तम्। मुंच मुंच हुं फट् स्वाहा ||

Bhoot Pret Pishacchadha Yasya Smarnamatratah |
Duradev Palayante Dattatreyam Namami
Tam Munch Munch Hum Fatt Swaha ||

दत्तात्रेय इस मंत्र का अभ्यास करने के लिए, आपको एक गिलास पानी लेकर इस मंत्र का 108 बार जाप करना होगा; और फिर इस पानी को अभिमंत्रित करके अपने घर में छिड़कना है। विशेष रूप से अलग-अलग कमरों के कोनों में छिड़कने से, आपके घर में ऊपर बताए गए सभी नकारात्मक प्रभावों से मुक्ति मिलेगी।

अमर गुरु का मंत्र

चिरंजीवी का अर्थ होता है ‘अमर’ या ‘चिरंतन’. हिंदू धार्मिक ग्रंथों में, अश्वत्थामा, बलि, व्यास, हनुमान, विभीषण, कृपाचार्य, और परशुराम – ये सभी सात चिरंजीवी या अमर माने जाते हैं। इस मंत्र को भी हनुमान के 108 नामों में से एक माना जाता है; हनुमान जी अमर देवताओं में सबसे प्रसिद्ध और लोकप्रिय हैं।

मन्त्र

ॐ चिरंजीविने नमः ||

Om Chiranjivine Namah ||

यह मंत्र मूल रूप से गुरु, गुरुओं के गुरु, नवनाथों के गुरु, ज्ञान के सर्वोच्च रूप को प्रदान करने वाले, और गुरु दत्तात्रेय को समर्पित है। वे अमर गुरु हैं, और इसलिए कई आध्यात्मिक संप्रदाय गुरु दत्तात्रेय के ध्यान करने के लिए इस मंत्र का जाप करते हैं।

कुछ लोग इसे दत्तात्रेय का मूल मंत्र मानते हैं। आध्यात्मिक साधक इस मंत्र को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाते हैं और अपने मन को उच्चतम आयामों की ओर खोलते हैं, जिसका प्रतिनिधित्व गुरु दत्तात्रेय करते हैं।

दत्तात्रेय रक्षा मंत्र

ॐ नमो भगवान् दत्तात्रेयः
स्मरणमात्रसन्तुष्टो महाभयनिवारणो महाज्ञानप्रदः
चिदानन्दात्मा बालोन्मत्तपिशाचवेषो महायोग्यवधूतोऽनसूयानन्दवर्धनोऽत्रिपुत्रः
ॐ बन्धविमोचनो ह्रीं सर्वविभूतिदः क्रों असाध्याकर्षण ऐं वाक्प्रदः
क्लीं जगत्रयवशीकरण सौः सर्वमनः
क्षोभण श्रीं महासम्पत्प्रदो ग्लौं भूमण्डलाधिपत्यप्रदः
द्रां चिरञ्जीवि वषट् वशीकुरु वौषट् आकर्षय हुं विद्वेषय फट् उच्चाटय ठः ठः
स्तम्भय खें खें मारय नमः सम्पन्नय स्वाहा पोषय परमन्त्रपरयन्त्रपरतन्त्राणि छिन्धि
ग्रहान् निवारय व्याधीन् विनाशय दुःखं हर दारिद्र्यं विद्रावय देहं पोषय चित्तं तोषय
सर्वमन्त्रस्वरूपः सर्वतन्त्रस्वरूपः सर्वपल्लवस्वरूपः ॐ नमो महासिद्धः स्वाहा

ये मंत्र दत्तात्रेय के शक्ति और सफलता प्राप्त करने में मदद कर सकते हैं।

दत्तात्रेय गायत्री मंत्र

“ॐ दिगंबराय विद्महे योगीश्राराय धीमहि।
तन्नो दत्तः प्रचोदयात॥”

अर्थ: हम उन दिगंबर (निर्वस्त्र) दत्तात्रेय को जानते हैं, जो महान योगियों के ईश्वर हैं। हम उन पर ध्यान करते हैं। वे दत्त हमारे बुद्धि को प्रकट करें और मार्गदर्शन करें।

उपरोक्त इन मंत्र का जाप स्फटिक की माला से नित्य 108 बार करना चाहिए।

दत्तात्रेय ध्यान मंत्र

जटाधाराम पाण्डुरंगं शूलहस्तं कृपानिधिम।
सर्व रोग हरं देव,दत्तात्रेयमहं भज॥

गुरु दत्तात्रेय मंत्र List of Dattatreya Mantras in Hindi
गुरु दत्तात्रेय

FaQs

दत्तात्रेय कौन हैं?

दत्तात्रेय हिंदू धर्म के त्रिमूर्ति देवताओं में से एक हैं, जिन्हें ब्रह्मा, विष्णु और महेश का संयुक्त स्वरूप माना जाता है। वे आदिगुरु के रूप में भी जाने जाते हैं और सभी धर्मों के प्रवर्तक माने गए हैं।

दत्तात्रेय के कितने रूप हैं?

दत्तात्रेय के प्रमुख रूप हैं – चार युगों के गुरु, आदिगुरु, दत्तगुरु और दत्तभगवान।

दत्तात्रेय के किस दिन पूजा करें?

दत्तात्रेय की पूजा को मंगलवार को की जाती है, जो उनके आराधना के लिए शुभ दिन माना जाता है।

Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Powered By
100% Free SEO Tools - Tool Kits PRO