Ek Mukhi Rudraksha : पहचान,मंत्र,महत्व,नियम,फायदे-नुकसान

एक मुखी रुद्राक्ष मंत्र

Ek Mukhi Rudraksha mantra: एक मुखी रुद्राक्ष के लिए विशेष मंत्र है । यह मंत्र रुद्राक्ष की ऊर्जा को शुद्ध करने और उसके शक्तियों को सकारात्मक बनाने में मदद करता है। जब आप इस रुद्राक्ष को धारण करने के लिए तैयार हों, तो आपको इस मंत्र का जाप करते हुए उसे धारण करना चाहिए। आप इस मंत्र का जाप करते हुए अपनी मनोकामनाओं को साकार करने की शक्ति प्राप्त कर सकते हैं और अपने ध्यान को शिव की ओर मोड़ सकते हैं।

मंत्र: “ॐ ह्रीं नमः”

एक मुखी रुद्राक्ष का महत्व

1मुखी रुद्राक्ष (Ek Mukhi Rudraksha) का महत्व अत्यंत उच्च है। यह पूरे ब्रह्मांड में सर्वप्रथम कल्याणकारी वस्तु मानी जाती है। इसके प्रभाव से मनुष्य अपनी इंद्रियों को वश में कर ब्रह्म ज्ञान की प्राप्ति की ओर अग्रसर होता है। धन प्राप्ति में भी एक मुखी रुद्राक्ष फायदेमंद साबित होता है। इसका धारणा करना आध्यात्मिक उन्नति और एकाग्रता के लिए उत्तम माना जाता है।

एक मुखी रुद्राक्ष की पहचान

Ek Mukhi Rudraksha Ki Pehchan : 1 मुखी रुद्राक्ष की पहचान करना बहुत जरूरी है क्योंकि इसमें कई प्रकार के रुद्राक्ष होते हैं। एक मुखी रुद्राक्ष में केवल एक मुख होता है और यह अन्य रुद्राक्षों से पहचाना जा सकता है। इसका रंग भी गहरा और चमकीला होता है।

Ek Mukhi Rudraksha -एक मुखी रुद्राक्ष की पहचान

एक मुखी रुद्राक्ष की पहचान करने के लिए कई तरीके हैं:

  • इसका आकार काजू के आकार जैसा होता है या फिर अर्द्ध चन्द्रमा के आकार जैसा होता है।
  • इसके में केवल एक ही धारी पाई जाती है।
  • गर्म पानी में रुद्राक्ष को उबालें और अगर वह अपना रंग छोड़ने लगे तो वह रुद्राक्ष असली नहीं है।
  • रुद्राक्ष की पहचान का एक अन्य तरीका है उसे सरसों के तेल में डालकर देखना। यदि रुद्राक्ष का रंग पहले से अधिक गहरा और असली है, तो वह उत्तम माना जाता है।

इस राशि के लोगों के लिए है अत्यंत लाभकारी:

वैसे तो एक मुखी रुद्राक्ष कोई भी धारण कर सकता है। 1 मुखी रुद्राक्ष में स्वयं भगवान शिव का वास माना जाता है और इसके स्वामी सूर्येदव बताये जाते हैं।जिन जातकों की कुंडली में सूर्य दोष है, उन्हें 1 मुखी रुद्राक्ष पहनना चाहिए क्योंकि यह सूर्य दोष को दूर करता है।

एक मुखी रुद्राक्ष पहनने के नियम

एक मुखी रुद्राक्ष को पहनने का तरीका बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। इसे सिद्ध करने के लिए आपको उसकी पूजा करनी चाहिए। आप स्वयं भी रुद्राक्ष की पूजा कर सकते हैं।

सबसे शुभ दिन महाशिवरात्रि का होता है, लेकिन आप इसे किसी भी सोमवार के दिन भी धारण कर सकते हैं। अगर संभव हो, तो रुद्राक्ष को सावन या श्रावण मास में पहनना उत्तम माना जाता है, क्योंकि यह माह भगवान शिव के लिए बहुत प्रिय है।

1 मुखी रुद्राक्ष को धारण करने के लिए, सुबह सूर्य उगते ही उसे गंगाजल से पवित्र करें। फिर उसे कच्चे दूध में धोकर फिर से गंगाजल से धोएं और साफ कपड़े से पोंछ लें। इसके साथ ही “ॐ नमः शिवाय” का जाप करें।

रुद्राक्ष की पूजा करने के लिए, उसे चन्दन लगाएं, फूल चढ़ाएं और धूप जलाएं। फिर एक मुखी रुद्राक्ष के बीज मंत्र “ॐ ह्रीं नमः” का 108 बार जाप करें।

जब आप इस मंत्र का आखिरी बार जाप कर रहे हों तो रुद्राक्ष को धारण कर लें।

इस रीति-रिवाज को अपनाकर आप रुद्राक्ष की ऊर्जा को संरक्षित रख सकते हैं और इसके साथ ही आपके आस-पास का माहौल भी शांतिपूर्ण होगा।

एक मुखी रुद्राक्ष के फायदे (ek mukhi rudraksha ke fayde)

एक मुखी रुद्राक्ष भगवान शिव की अद्वितीय शक्तियों का संगम है, जिसके कारण इसे कहा जाता है कि यह जन्म कुंडली में मौजूद किसी भी ग्रह के नकारात्मक प्रभाव को नष्ट करने की क्षमता रखता है। इसकी असीम शक्तियां निम्नलिखित लाभ प्रदान कर सकती हैं:

  • रुद्राक्ष आपके मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाता है। यह आपके नकारात्मक विचारों, प्रभावों, दबावों, और अवसाद को कम करता है और आपकी सुरक्षा करता है। यह बुरी आत्माओं, काले जादू, बुरे सपनों आदि को भी दूर रखता है और आपके मन को शांति प्रदान करता है।
  • 1 मुखी रुद्राक्ष आपके लक्ष्यों की प्राप्ति में सहायक होता है। यह आपके आत्मविश्वास को बढ़ाता है, आपके मार्ग में आने वाली बाधाओं को दूर करता है और लक्ष्य प्राप्ति में मदद करता है।
  • इसका धारणा करने से आपको कर्म ऋण या पापों को मिटाने में सहायता मिलती है, जिससे आपके अपराधबोध में कमी आती है और पिछले कर्मों का प्रभाव कम होता है।
  • रुद्राक्ष हमारी मानसिक क्षमताओं और अंतर्ज्ञान को भी सुधारता है और हमें सजग रखता है।
  • यह आपको अपने परिवेश में अधिक सजग बनाता है, सही और गलत के प्रति अधिक जागरूक करता है और आपके और आपके परिवार के लिए सही निर्णय लेने में मदद करता है।
  • 1 मुखी रुद्राक्ष की शक्ति इतनी अधिक है कि यह शारीरिक रूप से भी चिकित्सा प्रदान कर सकता है, और इसे अक्सर उन लोगों के लिए सुझाया जाता है जो निरंतर बीमार रहते हैं।

एक मुखी रुद्राक्ष के नुकसान

1 मुखी रुद्राक्ष का धारण करने के अनेक लाभ होते हैं, लेकिन कुछ स्थितियों में इसके कुछ नुकसान भी हो सकते हैं। यहां कुछ मुख्य नुकसान हैं:

  1. धार्मिक अनियमितता: अगर व्यक्ति एक मुखी रुद्राक्ष का उपयोग बिना वैदिक विधियों और आध्यात्मिक निर्देशों के करता है, तो इससे उसके धार्मिक अनियमितता का असर हो सकता है।
  2. शारीरिक संतुलन: कुछ लोगों को 1 मुखी रुद्राक्ष का धारण करने से शारीरिक संतुलन में परेशानी हो सकती है, विशेष रूप से अगर वे इसे बार-बार बदलते रहते हैं।
  3. ध्यान की अवरुद्धता: कुछ लोगों को ध्यान करने में असमर्थता का अनुभव हो सकता है यदि वे इस रुद्राक्ष का धारण करते हैं और उनका मन उत्तेजित या अधिक चंचल हो जाता है।
  4. विचारशक्ति के प्रभाव: कुछ लोगों को इस रुद्राक्ष का उपयोग करने से विचारशक्ति पर प्रतिबंधक या नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।
  5. आर्थिक प्रभाव: इस रुद्राक्ष की मांग अधिक होने के कारण, कुछ लोगों को धर्मिक और आध्यात्मिक उपकरण की खरीद पर आर्थिक प्रभाव हो सकता है।

इसलिए, अगर किसी व्यक्ति को इस रुद्राक्ष का उपयोग करने का निश्चित लाभ मिलेगा या नहीं, यह उसके व्यक्तिगत स्थिति, धार्मिक विश्वास और शारीरिक आवश्यकताओं पर निर्भर करता है। बेहतर होगा कि व्यक्ति पहले अपने गुरु या धार्मिक आध्यात्मिक नेता से परामर्श लें।

एक मुखी रुद्राक्ष कहां मिलेगा

1 मुखी रुद्राक्ष को मुख्य रूप से हिमालय क्षेत्र में पाया जाता है।एकमुखी रुद्राक्ष इतना भी दुर्लभ नहीं है कि असली न मिले। यह आसानी से मिल जाता है, और आज के समय में जब रुद्राक्ष की खेती( इसे खेती ही कहेंगे क्योंकि commercial हो गयी है) बहुतायत में है, तो आसानी से यह मिलते है।

ऐसे ही एक प्रश्न का उत्तर मैं पहले भी दे चुका हूँ। एकमुखी रुद्राक्ष की कीमत भारत में लगभग 5100 रूपए से लेकर 3.5 लाख रूपए तक है, शायद इससे भी ज्यादा के एकमुखी रुद्राक्ष आपको मिल जाए। इनकी बनावट के आधार पर इनकी कीमत तय होती है, लंबे एकमुखी सस्ते और गोल एकमुखी मेहेंगे होते है। इन्ही का अगर x-ray करके रिपोर्ट के साथ लिया जाए तो कीमत बहुत बढ़ जाती है।

आप चाहे इन्हें कहीं से भी ले, यह आसानी से उपलब्ध है, लेकिन किसी विश्वास वाली जगह से लेने बेहतर है, ऐसे में नकली एकमुखी रुद्राक्ष लेने से आप बच जाएंगे। ऑनलाइन ज्यादातर रुद्राक्ष नकली ही आ रहे है, ख़ास तौर पर जब आप इतना महँगा रुद्राक्ष लेने जा रहे है तो ऑनलाइन न ले। किसी विश्वास पात्र दूकान या व्यक्ति से ही ले।


इसे भी जरूर पढ़े :

Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Powered By
100% Free SEO Tools - Tool Kits PRO