जानें 12 ज्योतिर्लिंग कहां कहां है : 12 Jyotirlinga List

12 Jyotirlinga List: 12 ज्योतिर्लिंग भारतीय साहित्य और धर्म के महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल हैं। ये लिंग भगवान शिव के पवित्र स्थानों में से हैं, जिन्हें ‘ज्योतिर्लिंग’ के रूप में जाना जाता है। इन – द्वादश ज्योतिर्लिंगों के दर्शन से हमारे धार्मिक और आध्यात्मिक जीवन को नई प्रेरणा और शक्ति मिलती है। इन तीर्थ स्थलों का यात्रिकों और श्रद्धालुओं के लिए विशेष महत्व है, जो इन्हें पूजा, अर्चना, और ध्यान के लिए आते हैं। 12 ज्योतिर्लिंग कहां कहां है – यहाँ हम इन 12 ज्योतिर्लिंगों के स्थान की सूची प्रस्तुत कर रहे हैं, जिनका सम्मान और दर्शन करना हमें अपने आत्मिक यात्रा में सामर्थ्य और आनंद देता है।

12 Jyotirling List :12 ज्योतिर्लिंग कहां कहां है

12 Jyotirlinga List -12 ज्योतिर्लिंग कहां कहां है
12 Jyotirlinga List
12 ज्योतिर्लिंग के नामठहरने के विकल्प वाले स्थानराज्य
श्री सोमनाथ ज्योतिर्लिंगवेरावलगुजरात
मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंगश्रीशैलमआंध्र प्रदेश
महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंगउज्जैनमध्य प्रदेश
ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंगखंडवामध्य प्रदेश
बैद्यनाथ ज्योतिर्लिंगदर्दमाराझारखंड
भीमाशंकर ज्योतिर्लिंगपुणेमहाराष्ट्र
रामेश्‍वरम ज्‍योतिर्लिंगरामेश्वरमतमिलनाडु
नागेश्वर ज्योतिर्लिंगद्वारकागुजरात
विश्वनाथ ज्योतिर्लिंगवाराणसीउतार प्रदेश।
त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंगत्र्यंबकेश्वरमहाराष्ट्र
केदारनाथ ज्योतिर्लिंगरुद्रप्रयागउत्तराखंड
घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंगऔरंगाबादमहाराष्ट्र

12 ज्योतिर्लिंग कहां कहां है –

12 ज्योतिर्लिंग कहां कहां है - सोमनाथ ज्योतिर्लिंग
सोमनाथ ज्योतिर्लिंग

1. सोमनाथ ज्योतिर्लिंग

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग को न केवल भारत का, बल्कि इस पृथ्वी का पहला ज्योतिर्लिंग माना जाता है। यह मंदिर गुजरात राज्य के सौराष्ट्र क्षेत्र में स्थित है। शिवपुराण के अनुसार, जब चंद्रमा को दक्ष प्रजापति ने क्षय रोग का श्राप दिया था, तब चंद्रमा ने इसी स्थान पर तपस्या कर इस श्राप से मुक्ति पाई थी। ऐसा भी कहा जाता है कि इस शिवलिंग की स्थापना स्वयं चंद्रदेव ने की थी। विदेशी आक्रमणों के कारण यह मंदिर 17 बार नष्ट हुआ और हर बार इसे पुनर्निर्मित किया गया।

मंदिर का समय

मंदिर में दर्शन का समय सुबह 6:00 बजे से रात 10:00 बजे तक है। यहाँ सुबह 7:00 बजे, दोपहर 12:00 बजे, और शाम 7:00 बजे आरती होती हैं।

कैसे पहुंचें

वेरावल रेलवे स्टेशन मंदिर के निकटतम रेलवे स्टेशन है, जो मात्र 6 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। वहां से स्थानीय परिवहन आसानी से उपलब्ध है। निकटतम हवाई अड्डा दीव है, जो सोमनाथ मंदिर से 80 किलोमीटर की दूरी पर है।

12 ज्योतिर्लिंग कहां कहां है - मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग

2. मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग

मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग आंध्र प्रदेश में कृष्णा नदी के तट पर स्थित श्रीशैल पर्वत पर स्थित है। इस मंदिर का महत्व भगवान शिव के कैलाश पर्वत के समान माना जाता है। अनेक धार्मिक शास्त्र इसके धार्मिक और पौराणिक महत्व की व्याख्या करते हैं। कहा जाता है कि इस ज्योतिर्लिंग के दर्शन मात्र से ही व्यक्ति को उसके सभी पापों से मुक्ति मिल जाती है। एक पौराणिक कथा के अनुसार, जहां पर यह ज्योतिर्लिंग स्थित है, उस पर्वत पर आकर शिव का पूजन करने से व्यक्ति को अश्वमेध यज्ञ के समान पुण्य फल प्राप्त होते हैं।

मंदिर का समय

मंदिर में दर्शन का समय सुबह 5:30 बजे से रात 9:30 बजे तक है।

कैसे पहुंचें

निकटतम रेलवे स्टेशन मार्कपुर रेलवे स्टेशन है, जो मंदिर से 84 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। मंदिर तक पहुंचने के लिए स्थानीय परिवहन आसानी से उपलब्ध है। निकटतम हवाई अड्डा राजीव गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा है, जो मंदिर से 200 किलोमीटर की दूरी पर है।

12 ज्योतिर्लिंग कहां कहां है - महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग
महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग

3. महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग

महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग मध्य प्रदेश की धार्मिक राजधानी उज्जैन में स्थित है। इस ज्योतिर्लिंग की विशेषता यह है कि यह एकमात्र दक्षिणमुखी ज्योतिर्लिंग है। यहां प्रतिदिन सुबह की जाने वाली भस्मारती विश्व भर में प्रसिद्ध है। महाकालेश्वर की पूजा विशेष रूप से आयु वृद्धि और आयु पर आए हुए संकट को टालने के लिए की जाती है। उज्जैन के निवासी मानते हैं कि भगवान महाकालेश्वर ही उनके राजा हैं और वही उज्जैन की रक्षा करते हैं।

मंदिर का समय

मंदिर में दर्शन का समय सुबह 8:00 बजे से 10:00 बजे, सुबह 10:30 बजे से शाम 5:00 बजे, शाम 6:00 बजे से 7:00 बजे, और रात 8:00 बजे से 11:00 बजे तक है।

कैसे पहुंचें

मंदिर से लगभग 2 किलोमीटर की दूरी पर निकटतम रेलवे स्टेशन उज्जैन जंक्शन है। निकटतम हवाई अड्डा देवी अहिल्याबाई होल्कर हवाई अड्डा है, जो मंदिर से 57 किलोमीटर की दूरी पर है। मंदिर तक पहुंचने के लिए स्थानीय परिवहन आसानी से उपलब्ध है।

12 ज्योतिर्लिंग कहां कहां है - ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग
ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग

4. ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग

ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग मध्य प्रदेश के प्रसिद्ध शहर इंदौर के निकट स्थित है। इस ज्योतिर्लिंग का स्थान नर्मदा नदी के किनारे है, जहां नदी का प्रवाह पहाड़ी के चारों ओर होकर ऊं का आकार बनाता है। ऊं शब्द की उत्पत्ति ब्रह्मा के मुख से हुई है, और इसलिए किसी भी धार्मिक शास्त्र या वेदों का पाठ उसके साथ ही किया जाता है। यह ज्योतिर्लिंग ओंकार के आकार को धारण करता है, इस कारण इसे ओंकारेश्वर नाम से जाना जाता है।

मंदिर का समय

मंदिर दर्शन के लिए सुबह 5:00 बजे से रात 10:00 बजे तक खुला रहता है।

कैसे पहुंचें

मंदिर से लगभग 70 किलोमीटर दूर स्थित खंडवा जंक्शन निकटतम रेलवे स्टेशन है। निकटतम हवाई अड्डा देवी अहिल्याबाई होल्कर हवाई अड्डा है, जो मंदिर से 85 किलोमीटर की दूरी पर है। मंदिर तक पहुंचने के लिए स्थानीय परिवहन आसानी से उपलब्ध है।

12 ज्योतिर्लिंग कहां कहां है - केदारनाथ ज्योतिर्लिंग
केदारनाथ ज्योतिर्लिंग

5. केदारनाथ ज्योतिर्लिंग

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग भी भगवान शिव के 12 प्रमुख ज्योतिर्लिंगों में शामिल है। यह उत्तराखंड में स्थित है और बद्रीनाथ के मार्ग पर स्थित है। केदारनाथ समुद्र तल से 3584 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। इसका वर्णन स्कन्द पुराण और शिव पुराण में मिलता है। यह तीर्थ भगवान शिव के लिए अत्यंत प्रिय है, और उसने केदार क्षेत्र को भी कैलाश के समान महत्वपूर्ण बनाया है।

मंदिर का समय

मंदिर में दर्शन का समय सुबह 4:00 बजे से दोपहर 12:00 बजे तक और दोपहर 3:00 बजे से रात 9:00 बजे तक है।

मंदिर कैसे पहुंचें

गौरीकुंड से केदारनाथ मंदिर तक की ट्रेक दूरी 21 किलोमीटर है। आप देहरादून या हरिद्वार/ऋषिकेश से बसों का विकल्प चुन सकते हैं ताकि गौरीकुंड तक पहुंच सकें। राज्य परिवहन और निजी डीलक्स व वोल्वो बसें इन गंतव्यों के बीच चलती हैं। आप गौरीकुंड पहुंचने के लिए कैब या टैक्सी भी किराए पर ले सकते हैं।

12 ज्योतिर्लिंग कहां कहां है - भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग
भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग

6. भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग

महाराष्ट्र के पुणे जिले में स्थित सह्याद्रि पर्वत पर भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग स्थित है। इसे मोटेश्वर महादेव के नाम से भी जाना जाता है। इस मंदिर के बारे में एक मान्यता है कि जो भक्त इसे प्रतिदिन सुबह सूर्य निकलने के बाद श्रद्धा और विश्वास के साथ दर्शन करता है, उसके सात जन्मों के पाप मिट जाते हैं और उसके लिए स्वर्ग का मार्ग खुल जाता है।

मंदिर का समय

मंदिर में दर्शन के लिए जाने का समय सुबह 4:30 बजे से दोपहर 12:00 बजे तक और शाम 4:00 बजे से रात 9:30 बजे तक है।

कैसे पहुंचें

मंदिर से लगभग 105 किमी दूर निकटतम हवाई अड्डा पुणे अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा है। मंदिर से 147 किमी की दूरी पर स्थित कर्जत जंक्शन निकटतम रेलवे स्टेशन है।

12 ज्योतिर्लिंग कहां कहां है - काशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग
काशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग

7. काशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग

काशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग भारत के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है। यह उत्तर प्रदेश के काशी नामक स्थान पर स्थित है। काशी सभी धर्म स्थलों में सर्वोच्च महत्व रखती है। इसलिए इसे “मोक्ष की नगरी” कहा जाता है। यहाँ का मान्यता है कि प्रलय के बाद भी यह स्थान बना रहेगा, और भगवान शिव तब तक इसे अपने त्रिशूल पर धारण करेंगे जब तक कि प्रलय न समाप्त हो जाए।

मंदिर का समय

मंदिर दर्शन के लिए सुबह 5:00 बजे से दोपहर 1:00 बजे तक और दोपहर 3:00 बजे से रात 9:00 बजे तक खुलता है।

पहुँचने के लिए क्याकरें

मंदिर के दर्शन के लिए निकटतम रेलवे स्टेशन वाराणसी जंक्शन है जो लगभग 5 किमी दूर है। निकटतम हवाई अड्डा लाल बहादुर शास्त्री अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा है जो मंदिर से लगभग 25 किमी दूर है।

12 ज्योतिर्लिंग कहां कहां है - त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग
त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग

8. त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग

महाराष्ट्र के नासिक जिले में गोदावरी नदी के करीब स्थित त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग भगवान शिव के प्रमुख ज्योतिर्लिंगों में से एक है। इस ज्योतिर्लिंग के सबसे निकट ब्रह्मागिरि नामक पर्वत है, जिससे गोदावरी नदी उत्पन्न होती है। त्र्यंबकेश्वर भगवान शिव का एक अन्य नाम भी है। पौराणिक कथाओं के अनुसार, गौतम ऋषि और गोदावरी नदी के प्रेरणा से भगवान शिव ने यहां अपने ज्योतिर्लिंग रूप में विराजमान हुए।

मंदिर का समय

मंदिर में दर्शन के लिए जाने का समय सुबह 5:00 बजे से दोपहर 1:00 बजे तक और दोपहर 3:00 बजे से रात 9:00 बजे तक है।

पहुँचने के लिए क्या करें

इगतपुरी रेलवे स्टेशन निकटतम रेलवे स्टेशन है और छत्रपति शिवाजी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा भी निकटतम है।

12 ज्योतिर्लिंग कहां कहां है - वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग
वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग

9. वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग

श्री वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग को ज्योतिर्लिंगों की गणना में नौवां स्थान पर स्थित माना गया है। इस शिवलिंग का मंदिर वैद्यनाथ धाम के रूप में प्रसिद्ध है, जो झारखंड के देवघर में स्थित है।

मंदिर का समय

मंदिर में दर्शन और भ्रमण का समय सुबह 4:00 बजे से दोपहर 3:30 बजे तक और शाम 6:00 बजे से रात 9:00 बजे तक है।

पहुँचने के लिए क्या करें

मंदिर से लगभग 8 किमी की दूरी पर जसीडीह जंक्शन निकटतम रेलवे स्टेशन है। निकटतम हवाई अड्डा अटल बिहारी वाजपेयी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा है, जो केवल 8 किमी की दूरी पर है। यहां से स्थानीय परिवहन आसानी से उपलब्ध है।

12 ज्योतिर्लिंग कहां कहां है - नागेश्वर ज्योतिर्लिंग
नागेश्वर ज्योतिर्लिंग

10. नागेश्वर ज्योतिर्लिंग

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग गुजरात के द्वारिका स्थान में स्थित है, जो गुजरात के बाहरी क्षेत्र में है। धार्मिक शास्त्रों में भगवान शिव को नागों के देवता माना जाता है, और नागेश्वर का अर्थ होता है “नागों का ईश्वर”। इसीलिए भगवान शिव को नागेश्वर भी कहा जाता है। नागेश्वर ज्योतिर्लिंग का द्वारका पुरी से लगभग 17 मील की दूरी पर स्थान है। इस ज्योतिर्लिंग के दर्शन करने वाले को कहा जाता है कि जिसने इसे पूजा श्रद्धा और विश्वास के साथ किया है, उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं।

मंदिर का समय

मंदिर का समय सुबह 5:00 बजे से दोपहर 1:00 बजे तक और दोपहर 3:00 बजे से रात 9:00 बजे तक है।

कैसे पहुंचें

पहुँचने के लिए कैसे करें मंदिर को पहुंचने के लिए निकटतम रेलवे स्टेशन द्वारका जंक्शन है, जो मंदिर से 16 किमी की दूरी पर है। वैसे ही, मंदिर से 127 किमी की दूरी पर जामनगर हवाई अड्डा निकटतम है।

12 ज्योतिर्लिंग कहां कहां है - रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग
रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग

11. रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग

रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग तमिलनाडु राज्य के रामनाथ पुरं में स्थित है। यह भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है और हिंदू धर्म के चार धामों में से एक है। इस ज्योतिर्लिंग की स्थापना को भगवान श्रीराम ने की थी, और इसी कारण इसे “रामेश्वरम” कहा जाता है। भगवान राम के द्वारा स्थापित होने के कारण, इस ज्योतिर्लिंग को “रामेश्वरम” नाम से जाना जाता है।

मंदिर का समय

मंदिर में दर्शन और भ्रमण का समय सुबह 5:00 बजे से दोपहर 1:00 बजे तक और दोपहर 3:00 बजे से रात 9:00 बजे तक है।

कैसे पहुंचें

मंदिर से लगभग 1.5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित रामेश्वरम रेलवे स्टेशन निकटतम स्टेशन है। निकटतम हवाई अड्डा मदुरै हवाई अड्डा है, जो मंदिर से 177 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। वहां से स्थानीय परिवहन आसानी से उपलब्ध है।

12 ज्योतिर्लिंग कहां कहां है - घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग
घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग

12. घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग

महाराष्ट्र के संभाजीनगर के समीप दौलताबाद के पास स्थित घृष्णेश्वर महादेव का प्रसिद्ध मंदिर यहां है। इसे घृसणेश्वर या घुश्मेश्वर के नाम से भी जाना जाता है। यहां लोग आत्मिक शांति के लिए आते हैं और भगवान शिव का ध्यान करते हैं। यह भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से अंतिम ज्योतिर्लिंग है। इस मंदिर के समीप एलोरा की प्रसिद्ध गुफाएं हैं, जो बौद्ध भिक्षुओं द्वारा निर्मित हैं। यहां पर श्री एकनाथजी गुरु और श्री जनार्दन महाराज की समाधि भी है।

मंदिर का समय

मंदिर में दर्शन का समय सुबह 5:30 बजे से रात 9:30 बजे तक है।

कैसे पहुंचें

मंदिर तक पहुंचने के लिए निकटतम रेलवे स्टेशन औरंगाबाद रेलवे स्टेशन है जो मंदिर से लगभग 34 किमी दूर है। औरंगाबाद हवाई अड्डा भी मंदिर से लगभग 41 किमी दूर है और यहां से भी पहुँचना संभव है।

FaQs

सबसे पहले किस ज्योतिर्लिंग के दर्शन करें?

सबसे पहले सोमनाथ ज्योतिर्लिंग के दर्शन करें। यह ज्योतिर्लिंग भारत के गुजरात राज्य में स्थित है और इसे बारह ज्योतिर्लिंगों में प्रथम माना जाता है। इसके दर्शन से आपकी यात्रा का आध्यात्मिक आरंभ होगा।

12 ज्योतिर्लिंग में से महाराष्ट्र में कितने हैं?

महाराष्ट्र में 3 ज्योतिर्लिंग हैं। इनमें शामिल हैं:
1. त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग 2. भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग 3.घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग

सबसे पुराना ज्योतिर्लिंग कौन सा है?

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग सबसे पुराना माना जाता है। यह ज्योतिर्लिंग गुजरात के प्रभास क्षेत्र में स्थित है और हिंदू धर्म के 12 ज्योतिर्लिंगों में पहला माना जाता है।


सबसे पावरफुल ज्योतिर्लिंग कौन सा है?

गंगा तट स्थित काशी विश्वनाथ शिवलिंग के दर्शन हिन्दुओं के लिए अति पावरफुल माने जाते हैं।

Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Powered By
Best Wordpress Adblock Detecting Plugin | CHP Adblock