शक्तिशाली नरसिंह मंत्र | श्री नृसिंह मंत्र | Powerful Narasimha mantra

भगवान नरसिंह का शक्तिशाली मंत्र समूह

पुराणों में, भगवान नरसिंह को भगवान विष्णु का अवतार माना गया है, जो आधे मानव और आधे सिंह के रूप में प्रकट हुए थे। उनका सिर मानव का था, लेकिन चेहरा और पंजे सिंह की तरह थे। हिंदू धर्म में इस अवतार को भगवान का उग्र रूप माना जाता है, और यह कहा जाता है कि भगवान नरसिंह हमेशा अपने भक्तों की रक्षा करते हैं।

नरसिंह देवता की पूजा और मंत्रों का जाप हिंदू धर्म में महत्वपूर्ण है। इस जाप से व्यक्ति शत्रुओं पर विजय प्राप्त कर सकता है और समस्याओं से मुक्ति प्राप्त कर सकता है। नरसिंह देवता के मंत्रों का नियमित जाप करने से भक्त अपने जीवन में सुख शांति एवं सफलता प्राप्त कर सकता है।

नरसिंह भगवान का बीज मंत्र

  1. ‘श्रौं’/ क्ष्रौं (नृसिंहबीज)।
  2. ॐ श्री लक्ष्मीनृसिंहाय नम:।।
  3. ॐ नृम नृम नृम नर सिंहाय नमः ।

आपत्ति निवारक नरसिंह मंत्र | Ugra Narasimha Mantra

ॐ उग्रं वीरं महाविष्णुं ज्वलन्तं सर्वतोमुखम्।
नृसिंहं भीषणं भद्रं मृत्यु मृत्युं नमाम्यहम्॥

जो वीर, उग्र, और महाविष्णु है, जिसका मुख अग्नि से ज्वलित रहा है। वह नृसिंह, भद्र, और मृत्यु को मृत्यु नाशक क है। मैं उस मृत्यु रूप नृसिंह को नमस्कार करता हूँ।

नरसिंह गायत्री मंत्र

ॐ वज्रनखाय विद्महे तीक्ष्ण दंष्ट्राय धीमहि। तन्नो नरसिंह प्रचोदयात ।।

नरसिंह यश रक्षक मंत्र

“ॐ करन्ज नरसिंहाय यशो रक्ष”

नरसिंह मंत्र शत्रु नाशक

“ॐ नृम नरसिंहाय शत्रुबल विदीर्नाय नमः”

संपत्ति बाधा नाशक नरसिंह मंत्र

“ॐ नृम मलोल नरसिंहाय पूरय-पूरय”

ऋण मोचक नरसिंह मंत्र ।

“ॐ क्रोध नरसिंहाय नृम नम:”

संकटमोचन नरसिंह मंत्र

ध्याये न्नृसिंहं तरुणार्कनेत्रं सिताम्बुजातं ज्वलिताग्रिवक्त्रम्।
अनादिमध्यान्तमजं पुराणं परात्परेशं जगतां निधानम्।।

यदि आप विभिन्न संकटों से घिरे हुए हैं या संघर्ष का सामना कर रहे हैं, तो भगवान विष्णु या श्री नृसिंह की मूर्ति की पूजा करके उपरोक्त संकटमोचन नृसिंह मंत्र का स्मरण करें। इससे सभी संकटों से आसानी से मुक्ति प्राप्त हो सकती है।

इसे भी जरूर पढ़े : नरसिम्हा शाबर रक्षा मंत्र

नरसिंह भगवान की पूजा विधि :

पूजन विधि:

स्नान और तैयारी:
सूर्योदय से पहले उठकर स्नान करें। स्वच्छ वस्त्र पहनें और शुद्धि में रहें।

पूजा स्थल:
एक चौकी पर लाल, श्वेत, या पीला वस्त्र बिछाएं। उस पर भगवान नृसिंह और मां लक्ष्मी की मूर्ति या तस्वीर स्थापित करें।

पूजा सामग्री:
पंचामृत, फल, पुष्प, पंचमेवा, कुमकुम, केसर, नारियल, अक्षत, और पीतांबर का प्रयोग करें।

मंत्र जाप:
भगवान नृसिंह के मंत्र “ॐ नरसिंहाय वरप्रदाय नम:” का जाप करें।

उपासना:
एकांत में कुश के आसन पर बैठकर रुद्राक्ष की माला से नृसिंह भगवान के मंत्र का जप करें।

दान:
व्रती को उसके सामर्थ्य के अनुसार तिल, स्वर्ण, और वस्त्रादि का दान दें।

नोट: पूजा करते समय गंगाजल, काले तिल, पंच गव्य, और हवन सामग्री का उपयोग करना न भूलें।

नृसिंह मंत्र के फायदे|Benefits of Narasimha Mantra

शक्तिशाली नरसिंह मंत्र-नृसिंह मंत्र के फायदे
नृसिंह मंत्र के फायदे
  • श्री नृसिंह प्रतिमा की पूजा करके और संकटमोचन नृसिंह मंत्र का स्मरण करके, सभी संकटों से आसानी से छुटकारा मिल सकता है।
  • क्रोध से मुक्ति, सुखद और सफल जीवन के लिए भगवान नृसिंह के मंत्रों का जाप करना लाभकारी है।
  • नृसिंह मंत्र से तंत्र-मंत्र बाधा, भूत पिशाच भय, अकाल मृत्यु का डर, और असाध्य रोग से मुक्ति मिलती है।
  • भगवान नृसिंह को प्रसन्न करने के लिए नृसिंह गायत्री मंत्र का जाप करना शुभ है:
    ॐ वज्रनखाय विद्महे तीक्ष्ण दंष्ट्राय धीमहि | तन्नो नरसिंह प्रचोदयात |
  • भगवान नृसिंह को मोर पंख चढ़ाने से कालसर्प दोष से मुक्ति मिल सकती है।
  • नाग केसर से भगवान नृसिंह को अर्पित करने से धन में वृद्धि हो सकती है।
  • ऋणमोचक नरसिंह मंत्र का जाप करने से आप क़र्ज़ से मुक्ति प्राप्त कर सकते हैं।
  • चन्दन का लेप लगाने से रोगमुक्ति हो सकती है।
  • लोहे की कील चढ़ाने से बुरे ग्रहों का कोई असर नहीं होता है।

नरसिंह मंत्र PDF

FaQs

नरसिंह भगवान को प्रसन्न करने का उपाय ?

भगवान नृसिंह को प्रसन्न करने के लिए उनके नृसिंह गायत्री मंत्र का जाप करना चाहिए। भगवान नृसिंह के गायत्री मंत्र है -“ॐ वज्रनखाय विद्महे तीक्ष्ण दंष्ट्राय धीमहि | तन्नो नरसिंह प्रचोदयात |”

नरसिंह का दूसरा नाम क्या है?

नरसिंह भगवान की मृत्यु कैसे हुईभगवान नृसिंह को विभिन्न नामों से संबोधित किया जाता है, जिनमें से कुछ प्रमुख नाम इस प्रकार हैं:- 1)नरसिंह, 2)नरहरि, 3)उग्रवीरमाहाविष्णु, 4)हिरण्यकश्यपारी

नरसिम्हा अवतार को किसने मारा?

भगवान विष्णु के अवतार नरसिंह, के क्रोध को शांत करने के लिए भगवान शिव ने खुद को विनाशकारी रूप शरभ में बदल लिया – एक भयानक नरभक्षी पक्षी रूप में।

कौन सा दिन भगवान नरसिंह की पूजा या जयंती मनाया जाता है?

नरसिंह जयंती, भगवान नरसिंह की पूजा के लिए एक शुभ दिन होती हैं, जो वैशाख महीने में शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मनाई जाती है।


Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Powered By
100% Free SEO Tools - Tool Kits PRO