Karni Mata Ki Aarti – श्री करणी माता की आरती

Karni Mata Ki Aarti – श्री करणी माता की आरती

जय अम्बे करणी,मैया जय अम्बे करणी।
भक्त जनन भय संकट, पान छिनी हरणी॥
ॐ जय अम्बे….

आदि शक्ति अविनाशी,वेदन मैं वरणी।
अगम अन्नत अगोदर,विश्वरूप धरणी॥
ॐ जय अम्बे….

काली तू किरताली, दुर्गे दुःख हरणी।
चंडी तू चिरताली, ब्राह्मणी वरणी॥
ॐ जय अम्बे….

लक्ष्मी तू ही जाला,आवड़ जग हरणी।
दत्य दलण डाटाली, अवना अवतारणी॥
ॐ जय अम्बे….

ग्राम सुआप सुहाणी, धन थलहट धरणी।
देवल माँ मेहा घर, जन्मी जग जननी॥
ॐ जय अम्बे….

राज दियो रिड़मल ने, कानो खय करणी।
धेन दुहत बणिये की, तारो कर तरणी॥
ॐ जय अम्बे….

शेखो लाय सिंध सूं, पेथड़ आचरणी।
दशरथ धान दिपायो, सांपूसुख शरणी॥
ॐ जय अम्बे….

जेतल भूप जिताड़यो, कमल दल दलणी।
प्राण बचाए बखत के , पीर कला हरणी॥
ॐ जय अम्बे….

परचा गिण नही पाऊ, माँ अशरण शरणी।
सोहण चरण शरण मैं,दास अभय करणी॥
ॐ जय अम्बे….

ॐ जय अम्बे करणी,मैया जय अम्बे करणी
भक्त जनन भय संकट, पल छिनमै हरणी।

Karni Mata Ki Aarti - श्री करणी माता की आरती
श्री करणी माता की आरती

Karni Mata Ki Aarti Pdf

Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Powered By
100% Free SEO Tools - Tool Kits PRO