Dhanvantari Mantra : सर्व रोग नाशक धन्वंतरि मंत्र

Dhanvantari Mantra: भगवान धन्वंतरि को भारतीय संस्कृति में आयुर्वेद के प्रथम गुरु और चिकित्सा के देवता के रूप में पूजा जाता है। धन्वंतरि, भगवान विष्णु के प्रमुख रूपों में से एक माने जाते हैं। जब देवताओं और राक्षसों ने अमर अमृत की खोज के लिए दूधिया सागर का मंथन किया, तो भगवान धन्वंतरि उससे प्रकट हुए।

उन्हें स्वास्थ्य और चिकित्सा के प्रमुख प्रेरक माना जाता है, जो मानव जीवन को रोग मुक्त और स्वस्थ बनाने के लिए दिशा देते हैं। उनके जीवन में आयुर्वेदिक चिकित्सा की अमूल्य ज्ञान और शक्ति का प्रशंसकों द्वारा अद्यापि सम्मान किया जाता है। उनके मंत्रों का जाप उनके भक्तों को रोगों से रक्षा करता है और उन्हें स्वस्थ और प्राणिक ऊर्जा से भर देता है। उनकी कृपा से ही व्यक्ति अच्छे स्वास्थ्य और आत्मिक समृद्धि का आनंद ले सकता है।आइए जानते है इस लेख में भगवन धन्वंतरि के सभी मंत्र

Dhanvantari Mantra । भगवान धन्वंतरि मंत्र

Dhanvantari Mantra-भगवान धन्वंतरि मंत्र

ओम नमो भगवते वासुदेवाय धन्वंतराय
अमृत-कलश हस्ताय सर्व-अमाय विनाशाय
त्रैलोक्य नाथाय धन्वंतरि विष्णवे नमः।

इस मंत्र का अर्थ है:

ओम, मैं भगवान वासुदेव को नमस्कार करता हूँ, जो धन्वंतरि हैं, जो अमृत के कलश को हाथ में लिए हुए हैं, जो सभी रोगों का नाश करने वाले हैं, त्रैलोक्यों के नाथ हैं, महा-विष्णु के धन्वंतरि को मेरा नमन है।

भगवान धन्वंतरि सरल मंत्र

ॐ धन्वंतराये नमः॥

भगवान धन्वंतरि को प्रसन्न करने का यह अत्यंत सरल मंत्र है।

धन्वंतरि गायत्री मंत्र

Dhanvantari Mantra-धन्वंतरि गायत्री मंत्र

ओम तत् पुरुषाय विद्महे अमृत कलसा हस्ताय धीमहि तन्नो धन्वंतरि प्रचोदयात्।

इसका अर्थ है:
ओम, हम उस पुरुष को जानते हैं, जिनके हाथ में अमृत का कलश है, हमें उस धन्वंतरि को ध्यान में लेने की प्रेरणा दें।

भगवान धन्वंतरि के लोकप्रिय मंत्र

नामनि धन्वंतरी आदि देवम, सुरासुर वंदितम पाद पद्मम,
लोके जरा रुग्भय मृत्यु नाशकम, दथरम ईशम विविधौषधिनम ।

इसका अर्थ है:

हे नामनि धन्वंतरि, आदि देव, जिनकी पादपद्म को देवताओं और असुरों ने पूजा है, जो लोक में जरा, रोग, भय और मृत्यु का नाश करने वाले हैं, और विभिन्न प्रकार की औषधियों के ईश्वर हैं।

सर्व रोग नाशक धन्वंतरि मंत्र

Dhanvantari Mantra -सर्व रोग नाशक धन्वंतरि मंत्र

ॐ नमो भगवते महासुदर्शनाय वासुदेवाय धन्वंतराये:
अमृतकलश हस्ताय सर्व भयविनाशाय सर्व रोगनिवारणाय
त्रिलोकपथाय त्रिलोकनाथाय श्री महाविष्णुस्वरूप
श्री धनवंतरी स्वरूप श्री श्री श्री औषधचक्र नारायणाय नमः॥

इसका अर्थ है:

ओम, मैं भगवान महासुदर्शन, भगवान वासुदेव, और भगवान धन्वंतरि को नमस्कार करता हूँ। जो अमृत के कलश को हाथ में लिए हुए हैं, सभी भयों का नाश करने वाले हैं, सभी रोगों को दूर करने वाले हैं, त्रिलोकपथ के राजा हैं, त्रिलोकनाथ हैं, जो महाविष्णु के स्वरूप हैं, जो धन्वंतरि के स्वरूप हैं, जो औषधचक्र नारायण के स्वरूप हैं। मैं उनको नमस्कार करता हूँ।”

धन्वंतरि स्तो‍त्र :

ॐ शंखं चक्रं जलौकां दधदमृतघटं चारुदोर्भिश्चतुर्मिः।
सूक्ष्मस्वच्छातिहृद्यांशुक परिविलसन्मौलिमंभोजनेत्रम॥
कालाम्भोदोज्ज्वलांगं कटितटविलसच्चारूपीतांबराढ्यम।
वन्दे धन्वंतरिं तं निखिलगदवनप्रौढदावाग्निलीलम॥

इस पवित्र धन्वंतरि स्तोत्र का अर्थ है:

ओम, मैं धन्वंतरि को प्रणाम करता हूँ, जो शंख, चक्र, जलौका, अमृत का घट, सुंदर उदर और चारों ओर के चार आयामों के साथ हृदय में स्थित हैं। उनकी शुद्ध और सुंदर हृदय, सूर्य के समान चमकने वाले मस्तक, जल्दी गति से चलने वाले नेत्र, काल के समुद्र की ज्वालामुखी के समान तेजस्वी शरीर, सुंदर और कालीन कपड़े पहने हुए कटिन विलक्षण कटि, और सभी गलतियों को दूर करने वाले महादावाग्नि के समान उनके इस अद्भुत रूप को मैं नमस्कार करता हूँ।

धन्वंतरि मंत्रों का जाप कैसे करें

धन्वंतरि मंत्रों का जाप करने का सही तरीका निम्नलिखित है:

  • मंत्र का जाप सूर्योदय से पहले और सूर्योदय के दौरान करना अधिक फलदायी होता है।
  • उपासक को स्नान करना चाहिए और मंत्र जप के लिए कमल की माला या क्रिस्टल की माला का प्रयोग करना चाहिए।
  • बीमार व्यक्ति को भी मंत्र का जाप करके उनका उपचार किया जा सकता है।
  • मंत्र का जाप 108 के गुणक में करना चाहिए और दिन बीतने के साथ गिनती को बढ़ाना चाहिए।
  • दयालुता के कार्यों में संलग्न होकर जरूरतमंदों और गरीबों को दवाएँ और भोजन देना चाहिए। यह कृपा की शक्ति को बढ़ाएगा।

धन्वंतरि मंत्र के जाप के लाभ (Dhanvantari Mantra Benefits)

धन्वंतरि मंत्र के जाप के लाभ:

  • यह मंत्र मनुष्य के जीवन शक्ति और ऊर्जा को बढ़ाता है और कल्याण की प्राकृतिक स्थिति को प्राप्त करने में सहायक होता है।
  • यह मंत्र मानसिक भय और सभी प्रकार के कष्टों को दूर कर सकता है, जिससे स्पष्ट दृष्टि को बढ़ावा मिलता है।
  • इसके जाप से दिव्य ऊर्जाएं छूती हैं जो शरीर और मस्तिष्क पर काम करती हैं, और आत्मा को भी उपचारात्मक स्पर्श प्रदान करती हैं।
  • जितना अधिक इसका जाप किया जाता है, उतना ही अधिक इसका सकारात्मक और उपचारात्मक प्रभाव होता है।
  • धन्वंतरि मंत्र के जाप से असाध्य रोग भी ठीक हो सकते हैं, जिससे प्राकृतिक उपचार प्राप्त किया जा सकता है।
  • इस मंत्र के जाप से शारीरिक और मानसिक सभी प्रकार के रोगों का उपचार हो सकता है।
  • इसका परम उद्देश्य मुक्ति प्रदान करना है।

Dhanvantari Mantra Pdf

FaQs

धनतेरस पर भगवान धन्वंतरि की पूजा का क्या महत्व है?

धनतेरस पर भगवान धन्वंतरि की पूजा करने से स्वास्थ्य और भलाई के लिए उनका आशीर्वाद प्राप्त होता है। वह औषधि और चिकित्सा के देवता के रूप में पूजित होते हैं, और उनकी पूजा से रोगों का निवारण और उनका निवारण होता है।

धन्वंतरि मंत्र का क्या महत्व है?

धन्वंतरि मंत्र का जाप स्वास्थ्य, उपचार, और भलाई के लिए अत्यधिक प्रभावी माना जाता है। इसका जाप व्यक्ति को रोगों से मुक्ति प्रदान करता है और उन्हें समृद्धि और उत्तम स्वास्थ्य की प्राप्ति में सहायक होता है।

धन्वंतरि जयंती कब मनाई जाती है?

धन्वंतरि जयंती भारत में कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी को मनाई जाती है, जो धनतेरस के रूप में भी जानी जाती है।

Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Powered By
Best Wordpress Adblock Detecting Plugin | CHP Adblock